Breaking News
Home / राजनीती / रोहिंग्या पर टूटा योगी का कहर, एक्शन में है सरकार

रोहिंग्या पर टूटा योगी का कहर, एक्शन में है सरकार

रोहिंग्या के बारे में आपने जरूर सुना होगा। भारत के साथ यह समुदाय बांग्लादेश और म्यांमार में चर्चा का विषय बना हुआ है। अब भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में इन लोगो से संबंधित खबर आ रही है कि अब सूबे में इनकी पहचान की जा रही है। CM योगी ने यूपी में अ वैध रूप से रह रहे रोहिंग्या की छानबीन तेज करने को कहा है। इससे संबंधित एक आदेश यूपी एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने सभी जिलों के एसपी को निर्देश जारी कर दिए हैं। आइए आपको बताते हैं कि पूरा मामला क्या है

यूपी में रोहिंग्या की छानबीन तेज

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के कई जिलों में एक बार फिर रोहिंग्या की छानबीन तेज कर दी गई है। योगी आदित्यनाथ सरकार राज्य में रोहिंग्या को लेकर सतर्क नजर आ रही है। इसके संबंध में एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने जिलों के एसपी को निर्देश दिए हैं। गौरतलब है भारत में बांग्लादेश के रास्ते घुसपैठ कर सूबे के अलग-अलग जिलों में पहचान बदलकर रह रहे रोहिंग्या को खोज निकालने के लिए खुफिया व्यवस्था को सक्रिय और तेज किया जा रहा है।

अबतक 11 से ज्यादा रोहिंग्या पकड़े गए

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार का कहना है कि, “यूपी में अब तक फर्जी दस्तावेजों के जरिये पहचान बदलकर रह रहे 11 रोहिंग्या को पकड़ा जा चुका है। अब जो 11 रोहिंग्या पकड़े गए है, उनसे अन्य रोहिंग्या के बारे पूछताछ कर तलाश की जा रही है।” गौरतलब है यूपी एटीएस(UP ATS) ने गाजियाबाद से बीती 7 जून को पकड़े गए नूर आलम व आमिर हुसैन से पूछताछ में कई महत्वपूर्ण जानकारी मिली हैं।

सूत्रों के अनुसार नूर आलम विभिन्न जिलों में फर्जी दस्तावेज बनवाने के लिए राज्य के विभिन्न सरकारी कर्मचारियों के संपर्क में भी था। उनके बारे में भी जांच पड़ताल की जा रही है। इसके अलावा एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार का कहना है कि रोहिंग्या के संबंध में एटीएस दो मुकदमे दर्ज करके आगे की जांच कर रही है। वही यूपी के शामली में दर्ज 1 मुकदमे के तहत भी चार रोहिंग्या को हिरा सत में लिया जा चुका है।

यूपी में आंतरिक सुरक्षा को लेकर उनकी तलाश तेज कराई गई है। फर्जी दस्तावेजों के आधार पर उत्तर प्रदेश में छिपकर रह रहे रोहिंग्या पर योगी का डंडा अब चलना शुरू हो गया है। गौरतलब है कि अबतक की छानबीन में अजीजुल हक उर्फ अजीजुल्ला, अहमद हसन उर्फ फारुख, मो हम्मद शाहिल उर्फ शाहिद, आमिर हुसैन, नूर आलम, अब्दुल माजिद, नोमान अली, रिजवान खान व फुरखान को हि रासत में लिया जा चुका है।

उत्तर प्रदेश में रोहिंग्या के अलावा दो बांग्लादेशी नागरिक भी पकड़े गए थे। इन लोगो के पास से फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बनवाए गये पासपोर्ट, राशन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस जैसे दस्तावेज बरामद किए जा चुके हैं। आपको बता दें कि रोहिंग्या की घुसपैठ करा रहा नूर आलम उनके साथ पड़ोसी मुल्कों में हो रही ज्या दती के बारे में तकरीर देकर लोगों की सहानुभूति बटोर दस्तावेज बनवा रहा था। उत्तर प्रदेश में रोहिंग्या को खासकर संतकबीर नगर, उन्नाव, अलीगढ़, शामली, मेरठ व कुछ अन्य जिलों में छिपे होने की आशंका अधिक है। इन जगहों पर ये लोग बूचड़ खानो और अन्य कारखानों में मजदूरी व दिहाड़ी का काम करते हैं।

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *