free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / बच्चो को ट्यूशन पढाने वाली टीचर ने बच्चो के बाप को ही पढ़ा दिया प्यार का पाठ, और फिर प्यार का अंजाम जो हुआ..

बच्चो को ट्यूशन पढाने वाली टीचर ने बच्चो के बाप को ही पढ़ा दिया प्यार का पाठ, और फिर प्यार का अंजाम जो हुआ..

दोस्तों जब किसी को किसी से प्यार होता है तो पता ही नही चलता और न ही इस बात का ध्यान रहता है कि उस शख्स की उम्र कितनी है उसकी शादी हुयी है या नही ,उसके बच्चे है या नही . लेकिन यदि सब कुछ पता होते हुए किसी को ऐसे शख्स से प्यार हो जाए जिसके बच्चे हो तो क्या  किया जाए .ऐसे में यदि कोई सारी बाते नज़रअंदाज करके अपने प्यार को पाने में लग जाए तो कभी कभी ऐसे प्रयास जानलेवा साबित भी हो जाते है .आज हम आपको एक ऐसे मामले के बारे में बताने वाले है जिसमे बच्चो को  ट्यूशन पढाने वाली टीचर ने बच्चो के बाप को ही पढ़ा दिया प्यार का पाठ और उसके बाद इस प्यार का अंजाम जो हुआ वो उस लड़की ने सपने में भी नही सोचा होगा .क्या है पूरा मामला जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े .

पुलिस ने इस मामले में एक दपंत्ति और उसके दो नौकरों को गिरफ्तार किया है. बता दें कि मामला 16 मार्च को इंद्रा बस्ती पुलिस के नीचे युवती की लाश मिलने का था. जिसमें जांच के बाद पुलिस ने पाया कि ये हत्या का एक मामला है. राजस्थान पुलिस के मुताबिक भिवाड़ी जिला पुलिस क्षेत्र के तातारपुर थाना क्षेत्र इंद्रा बस्ती पुलिया के नीचे 16 मार्च को एक युवा महिला की लाश मिली थी. पुलिस ने इस मामले का पर्दाफाश करते हुए हत्या के आरोप में युवती के प्रेमी और उसकी पत्नी सहित कुल चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.एसपी भिवाड़ी शांतनु कुमार सिंह ने एएसपी नीमराणा, जगराम मीणा और डीएसपी किशनगढ़बास अतुल अग्रे ,एसएचओ तातारपुर विजय चंदेला के नेतृत्व में टीम का गठन कर जांच शुरू की. आसपास के थानों सहित अन्य जिलों और राज्यों में भी अज्ञात महिला के शव मिलने पर सूचित किया गया. ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी खोलना पुलिस के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था.

दिल्ली से जुड़े तार !

पुलिस ने घटना स्थल से साक्ष्य जुटाने के साथ ही तकनीकी संसाधनों का इस्तेमाल करते हुए क्षेत्र में आसपास के सीसीटीवी खंगाले तो पुलिस को 14 मार्च को एक दिल्ली नम्बर की गाड़ी की संदिग्ध गतिविधि नजर आई. जिस पर पुलिस ने कड़ी से कड़ी मिलाते हुए टोल नाकों के भी फुटेज खंगाले. इसके बाद पुलिस पूछताछ के लिए दिल्ली रवाना हो गई. पुलिस को पता लगा कि यह गाड़ी महिला सुनैना गुप्ता के नाम है. जो कि अपने पति कपिल गुप्ता के साथ दयानन्द विहार, कड़कडूमा में रहती है.

14 मार्च से लापता थीं प्रियंका

राजस्थान पुलिस ने दिल्ली पुलिस की मदद ली तो पता चला कि गांधी नगर से प्रियंका नामक एक युवती कई दिनों से लापता है. 14 मार्च को घरवालों ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज करवाई हुई है. पुलिस को परिजनों ने बताया कि प्रियंका घर से एटीएम से पैसे निकालने की बात कह कर गई थी लेकिन उसके बाद वह नहीं लौटी. पुलिस को ये भी पता चला कि प्रियंका का संबंध कपिल गुप्ता के परिवार से है. वह गुप्ता के बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती थी. इसके बाद पुलिस ने शक के आधार पर गुप्ता दंपत्ति से सख्ती से पूछताछ की. जिसके बाद सारा मामला खुल गया और दोनों ने प्रियंका की हत्या कबूल ली.

ये रही वजह

दरअसल दीपक गुप्ता के बच्चों को पिछले करीब सात-आठ सालों से प्रियंका ट्यूशन पढ़ाया करती थी. इसी दौरान उसके कपिल के साथ सम्बन्ध बन गए. यह अवैध रिश्ता कई सालों तक चलता रहा. प्रियंका चाहती थी दीपक अपनी बीवी को तलाक दे और उसके साथ शादी करे. इसके बाद जब प्रियंका बार-बार उसे तंग करने लगी तो उसने अपनी पत्नी सुनैना को सारी बात बताई. दोनों ने प्रियंका को रास्ते से हटाने के लिए योजना तैयार की.

ऐसे की हत्या

दीपक गुप्ता ने प्रियंका की हत्या करने की योजना में अपने नौकर राजकिशोर और सचिन को भी शामिल कर लिया. फिर 14 मार्च को कपिल ने ही फोन कर प्रियंका को बुलाया और उसे कार में बैठा लिया. इसी दौरान कपिल के दोनों नौकर और उसकी पत्नी भी गाड़ी में बैठ गए. चलती गाड़ी में प्रियंका का गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी गई. इसके बाद चारों लोग लाश को ठिकाने लगाने के लिए अलवर पहुंचे. यहां वे प्रियंका की लाश को सुनसान जगह तातारपुर थाना क्षेत्र में इंद्रा बस्ती की पुलिया के नीचे फेंक कर फरार हो गए. एसएचओ विजय कुमार चंदेला ने बताया कि फिलहाल, चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. आगे की कार्रवाई की जा रही है. अभी महिला के पहने हुए जेवरात, मोबाइल और अन्य सामग्री बरामद की जानी बाकी है.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.