free tracking
Breaking News
Home / जरा हटके / बच्चो से ज्यादा यहां होता है गाय बछड़ो को प्यार, साथ मे सोते यही और साथ मे खाते है खाना

बच्चो से ज्यादा यहां होता है गाय बछड़ो को प्यार, साथ मे सोते यही और साथ मे खाते है खाना

दोस्तों बहुत से ऐसे लोग है जिन्हें जानवरों से बहुत प्यार होता है .और वो लोग अपने घरो में कुत्ते-बिल्लियों,कबूतर ,तोते और गाय,भैंस बकरी पालते है .जंहा कुत्ते घर की रखवाली करते है वही गाय ,भैंसों से दूध प्राप्त होता है . कुत्ते को छोटे से कमरे में भी रखा जा सकता है .लेकिन गाय ,भेंसो के लिए ज्यादा स्थान की आवश्यकता होती है . आपने पालतू जानवरो  से तो सभी प्यार करते है लेकिन आज हम आपको ऐसे परिवार के बारे में बताने वाले है .जो अपने गाय ,बैल, बछड़ों को अपने बच्चो से भी ज्यादा  प्यार करते है .इनकी हर जरूरत का ख़ास ध्यान रखते है .

राजस्थान के जोधपुर में रहने वाला  परिवार जो अपने घर में गाय, बैल, बछड़ों  परिवार का सदस्य मानता है और इनकी काफी अच्छे से देखभाल करता है।बता दें, जोधपुर के हाउसिंग बोर्ड थाना क्षेत्र के सुभाष नगर में रहने वाले प्रेम सिंह कच्छवाह का पूरा परिवार इन दिनों चर्चा में है। दरअसल, प्रेम सिंह कच्छवाह और उनकी पत्नी संजू कंवर अपने घर में गाय और बैलों को बिल्कुल परिवार के सदस्य की तरह ही रखते हैं। इतना ही नहीं बल्कि इन्होंने अपने घर में गाय, बछड़े और बैल को नाम भी दिया है।

संजू कंवर ने बताया कि उनके घर में गाय का नाम ‘गोपी’ रखा गया है वहीं बछड़ी का नाम ‘गंगा’ तो बछड़े का नाम ‘पृथु’ रखा गया है। संजू कंवर का कहना है कि वह अक्सर इस बछड़े के साथ खेलती रहती है और उसे बड़े ही प्यार से नहलाती है और उसे अपने बेडरूम में ही सुलाती है।प्रेमसिंह का कहना है कि, उनके घर में रहने वाली गाय और बैल हमेशा ही बिस्तर पर बड़े आराम से रहते हैं। लेकिन गोबर करने के समय वह बिस्तर से उठ जाते हैं और अपने निर्धारित जगह पर चले जाते हैं। उन्होंने कभी भी घर को गंदा नहीं किया। पत्नी संजू कवर का कहना है कि गाय में 33 करोड़ देवी देवता निवास करते हैं। कुछ लोग तो सिर्फ दूध के लिए इनका पालन पोषण करते हैं और दूध ना देने पर इन्हें घर से भगा देते हैं।

संजू की अपील है कि घर में गाय पालने से घर की नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती है और घर में खुशियां बनी रहती है। इसके अलावा संजू का सरकार से कहना है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कर दिया जाना चाहिए और जो बेल खेती में काम नहीं कर पाते हैं, उनके लिए अलग से कानून निर्धारित करना चाहिए, ताकि उन्हें कोई भी अपने घर से भगा ना पाए।दिलचस्प बात यह है कि संजू के घर को ‘कॉउ हाउस’ के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि 1 दिन संजू के घर पहुंची नगर निगम टीम ने उनकी सारी गायों को सीज कर लिया था। ऐसे में फिर संजू और उनके पति ने फैसला किया कि वे अब अपने घर के अंदर ही गाय, बैल और बछड़ों को रखेंगे। ठंड के टाइम इन्हें अच्छे से रजाई, सॉल भी उड़ाते हैं।

इस परिवार के एक सदस्य का कहना है कि वह घर में गाय सिर्फ पालते हैं लेकिन किसी भी तरह डेयरी काम नहीं करते। उन्होंने बताया कि प्रेम सिंह सरकारी कर्मचारी है बल्कि वहीं संजू एक ग्रहणी जो हमेशा गायों की देखभाल में लगी रहती है। रिपोर्ट की माने तो जल्द ही ये परिवार अपना एक घर बेचकर गायों के लिए बड़ी जगह लेने जा रहे हैं, ताकि गाय के साथ-साथ अन्य बछड़े और बेल भी अच्छे से रह सकें।

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *