free tracking
Breaking News
Home / जरा हटके / हर हफ्ते शुक्रवार को तैयार होती है ये दुल्हन,अब तक बना लिया है विश्व रिकॉर्ड

हर हफ्ते शुक्रवार को तैयार होती है ये दुल्हन,अब तक बना लिया है विश्व रिकॉर्ड

दोस्तों वैसे तो हर लड़की खुबसूरत होती है .और सुन्दरता तो सादगी में ही होती है .लेकिन हर लड़की को सजने-संवरने का शौक होता है . कुछ लडकिया कम सजती है तो कुछ ज्यादा, तो कुछ लडकिया सिर्फ शादी या किसी पार्टी में तैयार होना पसंद करती है .दुल्हन की तरह तैयार होना भी हर लड़की का सपना होता और वो एक दिन दुल्हन की तरह तैयार होती भी है .लेकिन आज तक हमे कभी कोई ऐसी लड़की नही देखी जो रोजना दुल्हन की तरह तैयार होती हो . लेकिन आज के इस लेख में हम आपको ऐसी ही एक लड़की के बारे में बताने वाले है .जिसे हर हफ्ते दुल्हन  बनकर तैयार होने का शौक है . हैरानी की बात तो ये है कि ये शौक 16 साल पहले उन्हें चढ़ा था और आज तक वो अपने इस शौक को पूरा करती है और दुल्हन की तरह तैयार होती है और दुल्हन के रूप में वो बेहद खुबसूरत दिखाई देती है की हर कोई उसे देखता ही रह जाता है .

हर शुक्रवार बनती हैं दुल्हन


पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में रहने वाली 42 साल की हीरा ज़ीशान हर हफ्ते शुक्रवार के दिन दुल्हन वाला पूरा साज-श्रृंगार करती हैं और सजकर तैयार हो जाती हैं. उनका ये शौक 16 साल पहले ही जागा था, तब से उन्होंने कोई शुक्रवार नहीं छोड़ा, जब वो तैयार होकर नहीं बैठी हों. हीरा अपने दुल्हन के गेट अप में कोई कमी नहीं छोड़ती हैं. वे दुल्हन का सुर्ख लाल जोड़ा पहनती हैं, हाथों और पैरों में मेहंदी लगाती हैं और शादी के गहने भी पहनती हैं. इसके बाद दिन भर वो इसी तरह सजी-धजी रहती हैं.

क्यों पाला ये अजीब शौक?


अपने इस शौक पर बात करते हुए वे खुद बता चुकी हैं कि अब से 16-17 साल पहले उनकी मां बहुत ज्यादा बीमार हो गई थीं. इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा था. बीमार मां की इच्छा थी कि वे मरने से पहले अपनी बेटी की शादी करवाना चाहती हैं. ऐसे में हीरा की शादी अस्पताल में ही उस शख्स से हो गई, जिसने उनकी मां को खून दिया था. मां की खुशी के लिए हीरा ने वहीं शादी कर ली और उनकी विदाई रिक्शे में हो गई. उस दिन न तो वे तैयार हो पाई थीं, न ही उन्होंने मेकअप किया था. शादी के कुछ दिन जब मां की मौत हो गई तो वे और दुखी हो गईं. इतना ही नहीं हीरा के 6 बच्चे हुए, जिसमें शुरुआती 2 बच्चों की मौत भी हो गई थी. इसी गम से उबरने के लिए उन्होंने खुद को दुल्हन की तरह सजाना शुरू कर दिया. ये सिलसिला आज भी जारी है.

 

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *