free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / इस कारण से हुआ था वैष्णो देवी में हादसा,सामने आई असली वजह

इस कारण से हुआ था वैष्णो देवी में हादसा,सामने आई असली वजह

31 दिसम्बर की रात में जहाँ सब लोग आने वाले नए साल की ख़ुशी में जश्न मना रहे थे वहीँ दूसरी तरह विष्णु देवी में देर रात  भीड़ में भगदड़ होने के कारण एक बड़ा हादसा हुआ  जिसमें 12 लोगो ने अपनी जान गवां दी ! बहुत से श्रद्धालु अपने नए साल को माँ विष्णु देवी के दर्शन पा कर शुरू करना चाहते थे इसलिए लोग लाखो की संख्या में विष्णु देवी के दरवार माँ का आशीर्वाद लेने पहुंचे लेकीन उन्हें क्या पता था कि आपने वाला ये साल उनके लिए काल साबित होगा  ! नया साल शुरू होने के कुछ ही घंटो में होने वाले इस हादसे ने पुरे देश को झंझोड़ कर रख  दिया है बीती रात आखिर ऐसा क्या हुआ कि अचानक भीड़ में भगदड़ मची और इस भयंकर हादसे में बदल गयी चलिए जानते है !

पीएम ने जताया दुख

जम्मू कश्मीर के कटरा स्थित माता वैष्णो देवी के पवित्र धाम में बीती रात भगदड़ से 12 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि कई लोग घायल हो गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैष्णो देवी परिसर में हुए हादसे पर दुख जताया है। उन्होंने इस हादसे में मारे गए श्रद्धालुओं को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मुआवजे का ऐलान किया है। इन सभी मृतकों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष के तहत 2-2 लाख रुपये दिए जाएंगे साथ ही घायलों को 50 हजार रुपये की धनराशि दी जाएगी। पीएम मोदी ने राहत राशि की घोषणा करते हुए सभी हताहतों के प्रति संवेदना व्यक्त की साथ ही इस घटना में घायल तमाम लोगों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना की।

अमित शाह ने व्यक्त की संवेदना

वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी इस घटना पर दुख जताया है। इस मामले में उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि  माता वैष्णो देवी मंदिर में हुई दुखद दुर्घटना से हृदय अत्यंत व्यथित है। इस संबंध में मैंने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से बात की है। प्रशासन घायलों को उपचार पहुंचाने के लिए निरंतर कार्यरत है। इस हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं।

हादसे में 12 की मौत, 13 घायल

बता दें, देर रात हुए इस हादसे ने सभी को चौंका कर रख दिया। घटना की सूचना मिलते ही राहत बचाव टीम ने देर रात तक कड़ी मशक्कत के बाद परिसर में फंसे लोगों को निकाला और उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। इस दौरान माता वैष्णो देवी के दर्शन को लेकर किए जा रहे रजिस्ट्रेशन तत्काल रुप से प्रतिबंधित कर दिये गए थे। हालांकि, हादसे के 10-12 घंटे बाद रजिस्ट्रेशन काउंटर्स को एक बार फिर श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है। इस बात की पुष्टि जम्मू कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने की। उन्होंने बताया कि इस घटना में 12 लोगों की मौत हो गई है जबकि 13 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

मृतकों की हुई पहचान

जानकारी के मुताबिक, मृतकों की पहचान कर ली गई है। उनमें जम्मू-कश्मीर के नौशेरा राजौरी निवासी धीरज कुमार, यूपी के गाजियाबाद की निवासी श्वेता सिंह, दिल्ली के विनय कुमार और सोनू पांडे, हरियाणा के झज्जर की ममता, यूपी के सहारनपुर के धर्मवीर सिंह और विनीत कुमार व गोरखपुर के अरुण प्रताप सिंह शामिल हैं।

घटना की असली वजह आई सामने

उधर, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने इस घटना की असली वजह बताई है। उन्होंने कहा कि ढलान पर खड़े दो श्रद्धालुओं के बीच किसी बात को लेकर बहस हो गई जिससे उन्होंने एक-दूसरे को धक्का दे दिया और इसी के बाद भगदड़ मच गई।  उन्होंने आगे बताया कि जब एक श्रद्धालु ने दूसरे श्रद्धालु को धक्का दिया तो वे वहां खड़ी भीड़ पर गिर गए जिससे ढलान पर उपस्थित लोग असंतुलित हो गए और फिर भगदड़ मच गई।

मनोज सिन्हा ने दिए हाईलेवल जांच के आदेश

गौरतलब है, राज्य के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने माता वैष्णो देवी परिसर में हुई इस हृदयविदारक घटना के संबंध में जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस उच्चस्तरीय जांच कमेटी की अध्यक्षता प्रधान सचिव (गृह) करेंगे, जिसमें एडीजीपी, जम्मू और मंडलायुक्त, जम्मू सदस्य होंगे।’ इसके अलावा राज्यपाल की तरफ से मृतकों के परिजनों को 10 लाख रुपये मुआवजे का भी ऐलान कर दिया गया है।

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *