free tracking
Breaking News
Home / बॉलीवुड / विवेक अग्निहोत्री की अगली फिल्म के लिए स्वरा भास्कर थी पहली पसंद,लास्ट मिनट पर किया रिप्लेस,क्यूंकि..

विवेक अग्निहोत्री की अगली फिल्म के लिए स्वरा भास्कर थी पहली पसंद,लास्ट मिनट पर किया रिप्लेस,क्यूंकि..

दोस्तों अक्सर ट्वीटर पर लोगो के बीच  तकरार होते दिखाई देती  है सभी एक दुसरे के ट्वीट  पर बयानबाजी करता हुआ दिखाई देता है . अक्सर निर्देशक विवेक अग्निहोत्री और अभिनेत्री स्वरा भास्कर के बीच भी ट्वीटर पर जंग होती देखी गयी है . लेकिन उसके बाद भी निर्देशक विवेक अग्निहोत्री अभिनेत्री स्वरा भास्कर के  साथ एक फिल्म बनाने जा रहे थे . लेकिन अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने फिल्म की शूटिंग शुरू  होने से पहले कुछ ऐसा कर दिया जिसकी वजह से निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने स्वरा भास्कर को दिखाया बाहर का रास्ता . एक इंटरव्यू में इसके बारे खुद विवेक अग्निहोत्री ने बताया है पूरा मामला क्या है जानने के लिए लेख को अंत तक जरुर पढ़े .

विवेक अग्निहोत्री ने  इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने फिल्म ‘बुद्धा इन अ ट्रैफिक जाम’ के लिए स्वरा भास्कर को साइन किया था। लेकिन लास्ट मिनट पर उन्हें रिप्लेस कर दिया गया। उन्होंने कहा, “हमारे उस (फिल्म) के लिए स्वरा भास्कर थी। स्वरा वह फिल्म कर रही थी। शूटिंग से एक दिन पहले, मैं हैदराबाद के लिए उड़ान भर रहा था और मेरे निर्माता ने कहा कि अगर कोई फिल्म से पहले इतने नखरे दिखाती है तो फिल्म के बाद यह काफी मुश्किल होने वाला है। इसलिए हमने उन्हें आखिरी मिनट में रिप्लेस कर दिया।” नीचे के वीडियो में आप यह बात 25वें मिनट से सुन सकते हैं।

बताया जाता है कि इसी घटना के बाद से ही स्वरा और विवेक के बीच अच्छे रिश्ते नहीं हैं। दोनों अक्सर सोशल मीडिया पर भिड़ते रहते हैं। स्वरा ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर भी अग्निहोत्री की आलोचना की थी। उन्होंने ट्वीट किया था, “अगर आप चाहते हैं कि लोग आपको सफलता के लिए आपकी मेहनत को बधाई दे तो पहले बीते 5 साल में उनके सिर पर बैठकर गंदगी नहीं फैलाना चाहिए था।” स्वरा का ये ट्वीट तब आया था, जब लोग बॉलीवुड सेलेब्स से ‘द कश्मीर फाइल्स’ को सपोर्ट करने की माँग कर रहे थे। हालाँकि ये ट्वीट स्वरा को ही भारी पड़ गया और वो सोशल मीडिया पर बुरी तरह ट्रोल हो गईं।

उल्लेखनीय है कि विवेक अग्निहोत्री हमेशा से लीक से हटकर सिनेमा बनाते रहे हैं। उनकी द कश्मीर फाइल्स ने नब्बे के दशक में हुए हिंदुओं के नरसंहार को आवाज देने का काम किया है। लेकिन एक तबके को यह रास नहीं आ रहा है। एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार  ने तो कहा है कि इस फिल्म को प्रदर्शन की अनुमति ही नहीं मिलनी चाहिए थी। वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पिछले दिनों इस फिल्म को ‘झूठा’ करार दिया था।

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.