free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / अखिलेश के सबसे करीबी नेता की हुई हार,टोटी उखड़ी चला बुलडोजर

अखिलेश के सबसे करीबी नेता की हुई हार,टोटी उखड़ी चला बुलडोजर

मित्रों जैसा की आप सभी भलीभांति अवगत है कि सरकार ने कई ऐसे ऐतिहासिक फैसले लिये है जो कि चौकाने वाले रहे है। कई ऐसे बड़े फैसले देशहित में भी लिये गये और उसपे अमल भी किया गया। इन कार्यों के माध्यम से मौजूदा सरकार जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने का काम किया है। जिसके फलस्वरूप 2022 में हुये चुनाव में बीजेपी की ही सरकार बनती हुई दिख रही है, हालाकि अन्य विपक्षी पार्टियों को ये लग रहा था कि यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफा देने से बीजेपी का काफी बड़ा झटका लगा है, पर चुनाव के नतीजे आने के बाद तस्वीर कुछ और ही नजर आ रही है, क्योंकि दल-बदलू नेता स्वामी प्रसाद मौर्य बीजेपी के खिलाफ जिस सीट से खड़े थे वो वहां से बुरी तरह से हार रहे है।

दरअसल इस बात में तो कोई दो राय नही है कि उत्तर प्रदेश सरकार के कामकाज से पूरी जनता काफी खुश है जिसका उदाहर आज की मतगणना में बीजेपी की जी है, पर दल-बदलू नेता स्वामी प्रसाद को उत्तर प्रदेश सरकार का कार्य नही समझ आ रहा था। शायद यही कारण था कि बीजेपी पार्टी को छोड़ सपा पार्टी में सामिल हो गये। हालाकि इस वाक्ये के पश्चात सपा काफी उत्साहित दिखी। वहीं स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान से साफ था कि उन्हें तब भी योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व पर भरोसा नहीं था और कामकाज को लेकर वह खफा चल रहे थे। दूसरी वजह यह है कि स्वामी प्रसाद मौर्य अपने बेटे अशोक के लिए विधान सभा का टिकट माँग रहे थे, बीजेपी देने को तैयार नहीं थी, क्योंकि स्वामी प्रसाद मौर्य खुद विधायक और मंत्री हैं और उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य बदायूं लोक सभा सीट से बीजेपी सांसद हैं। यहीं कारण था क्योंकि बीजेपी अपनी पार्टी में कभी परिवारवाद नही चाहती है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य 2017 में यूपी विधान सभा चुनाव से पहले बीएसपी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे, अब साल 2022 के यूपी चुनाव से पहले वह बीजेपी छोड़कर सपा में शामिल हो गए हैं। ऐसे में इन्हें दल-बदलू नेता न कहा जाये तो क्या कहा जाये। हालाकि बीजेपी पार्टी छोड़ने के पश्चात इनको हार का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि अगर अभी की मतगणना पर नजर डाले तो स्वामी प्रसाद मौर्य बीजेपी पार्टी से 14000 वोटों से पीछे चल रहे है। ऐसे में यह कहना गलत न होगा कि स्वामी प्रसाद मौर्य का बीजेपी पार्टी को छोड़ना काफी नुकसानदायक साबित हो रहा है। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published.