free tracking
Breaking News
Home / देश दुनिया / इन 5 हथियारो के दम पर रूस से डरती है दुनिया,अमेरिका के पास भी नही है ये पावर

इन 5 हथियारो के दम पर रूस से डरती है दुनिया,अमेरिका के पास भी नही है ये पावर

दोस्तों वैसे तो हर देश की सेना में बड़े ही जांबाज और दिलेर सैनिक होते है जो दुश्मनों को नाको चने चबवा सकते है और अपने देश के लिए हंसते हंसते जान दे भी सकते हो और दुश्मनों की जान ले भी सकते है . एक बार जब सैनिको के सिर पर जीत का खून सवार हो जाए और देश की रक्षा का जूनून हो तो ये किसी गोला बारूद से नही डरते . लेकिन जब दुश्मन के पास ज्यादा शक्तिशाली हथियार हो तो डर लगना तो लाजमी है . आज हम आपको रूस के ऐसे ही 5 हथियारों के बारे में बताने वाले है जिसकी वजह से रूस से डरती है दुनिया .

पोसीडॉन न्यूक्लियर टारपीडो- पिछले साल अक्टूबर में आईं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रूस नया पोसीडॉन परमाणु टारपीडो विकसित कर रहा है.ये टारपीडो परमाणु-संचालित है इसलिए इसकी विशाल सीमा होगी. यह एक बस (7-फीट व्यास और 100 टन) जितना बड़ा और परमाणु उपकरण से लैस होगा. यह हथियार भयावह है क्योंकि यह किसी भी तट से अमेरिकी शहरों को निशाना बना सकता है. रूस का लक्ष्य पोसीडॉन को अपनी K-329 बेलगोरोड पनडुब्बी से लॉन्च करना है.

S-400 ट्रायम्फ मिसाइल डिफेंस सिस्टम- S-400 ट्रायम्फ मिसाइल डिफेंस सिस्टम को काफी शक्तिशाली माना जाता है. इसका इस्तेमाल मिसाइल के आधार पर 250 मील दूर तक क्रूज मिसाइलों और बैलिस्टिक मिसाइलों के खिलाफ भी किया जा सकता है. S-400 बैटरी में रडार और मोबाइल कमांड पोस्ट के साथ आठ लॉन्चर और 32 मिसाइल मौजूद होती हैं.

पैंटसर एस-1 एयर डिफेंस सिस्टम- पैंटसर एस-1 एयर डिफेंस सिस्टम एक मोबाइल मिसाइल लॉन्चर है जिसमें एक एंटी-एयरक्राफ्ट गन भी होती है. इससे सतह से हवा में मारकर निशाना लगाने वाली 12 मिसाइल और दो 30mm तोपें लगी होती हैं. विमान के अलावा, पैंटसर आने वाली बैलिस्टिक और क्रूज मिसाइलों और सटीक निशाना लगाकर चलाए गए हथियारों को नष्ट कर सकता है.

 

Mi-28NM सुपरहंटर अटैक हेलीकॉप्टर- एमआई-28 एनएम सुपरहंटर अमेरिकी एएच-64 अपाचे की तरह का एक शक्तिशाली हेलीकाप्टर है. यह अपग्रेडेड हैवॉक मॉडल पर आधारित है. नए सेंसर की मदद से इसे रात में उड़ने और हमला करना आसान हो जाता है. Mi-28NM 280 मील की रेंज के साथ 186 मील प्रति घंटे की रफ्तार से जा सकता है.

आरएस-24 यार्स आईसीबीएम- RS-24 Yars ICBM रोड-मोबाइल या साइलो-लॉन्च है. यह तीन चरणों वाली ठोस ईंधन वाली मिसाइल है. यह 6,500 मील की सीमा के साथ 150 से 250 किलोटन के तीन से छह स्वतंत्र रूप से लक्षित एमआईआरवी तैनात कर सकता है. रूस 2016 तक कम से कम 63 मोबाइल और 10 साइलो-आधारित Yars ICBM इस्तेमाल कर रहा था.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.