free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / पेट्रोल डीजल के दामो की टेंशन हुई दूर,रूस ने भारत को दिया बम्पर आफर

पेट्रोल डीजल के दामो की टेंशन हुई दूर,रूस ने भारत को दिया बम्पर आफर

दोस्तों जैसा कि सभी को मालूम है रूस द्वारा यूक्रेन पर हमला करने के बाद रूस को  अमेरिका और कई देशो द्वारा लगाये गये  बहुत से सख्त आर्थिक प्रतिबंधो का सामना करना पड़ रहा है .आपको बी ता दे रूस के तेल एवं गैस पर अमेरिका प्रतिबंध लगा चूका है और कई यूरोपीय देश भी ये प्रतिबंध  जल्दी ही लगाने वाले है .अब ऐसे में तेल ,गैस और  अन्य कमॉडिटीज के लिए रूस को  बाजार की  खोज है . जिसके लियर रूस ने भारत को भारी डिस्काउंट ऑफर भी दिया है .रूस द्वारा दिए गये इस ऑफर से भारत को काफी फायदा होने वाला है.

सस्ता रूसी तेल खरीदने की ये है तैयारी

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में दो भारतीय अधिकारियों के हवाले से बताया गया है कि रूस के डिस्काउंट ऑफर पर विचार किया जा रहा है. रूस से क्रूड ऑयल और कुछ अन्य कमॉडिटीज को डिस्काउंट पर खरीदने का ऑफर मिला है. इसका पेमेंट भी रुपया-रूबल ट्रांजेक्शन होगा. एक अधिकारी ने कहा, ‘रूस तेल और अन्य कमॉडिटीज पर भारी ऑफर दे रहा है. हमें उन्हें खरीदने में खुशी होगी. अभी हमारे साथ टैंकर, इंश्योरेंस कवर और ऑयल ब्लेंड को लेकर कुछ इश्यूज हैं. इन्हें सोल्व करते ही हम डिस्काउंट ऑफर एक्सेप्ट करने लगेंगे.’

प्रतिबंध से बचने के लिए कई ट्रेडर कर रहे परहेज

रूस के ऊपर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद कई सारे इंटरनेशनल ट्रेडर रूस से तेल या गैस खरीदने से परहेज कर रहे हैं. हालांकि भारतीय अधिकारियों का कहना है कि ये प्रतिबंध भारत को रूस से ईंधन खरीदने से नहीं रोकते हैं. अधिकारी का कहना है कि रुपया-रूबल में व्यापार करने की व्यवस्था तैयार करने पर काम चल रहा है. इस व्यवस्था का इस्तेमाल तेल और अन्य चीजों को खरीदने में किया जाएगा. दोनों अधिकारियों ने यह नहीं बताया कि रूस कितना डिस्काउंट दे रहा है या डिस्काउंट पर कितना तेल ऑफर किया गया है.

इम्पोर्ट बिल के साथ ही सब्सिडी के मोर्चे पर राहत

भारत अपनी जरूरतों का 80 फीसदी ऑयल इम्पोर्ट करता है. रूस से भारत करीब 2-3 फीसदी तेल खरीदता है. चूंकि अभी कच्चा तेल की कीमतें 40 फीसदी ऊपर जा चुकी हैं, भारत सरकार इम्पोर्ट बिल कम करने के लिए विकल्पों की तलाश कर रही है. क्रूड की कीमतें बढ़ने से अगले फाइनेंशियल ईयर में भारत का इम्पोर्ट बिल 50 बिलियन डॉलर तक बढ़ सकता है. इस कारण सरकार सस्ते तेल के साथ ही रूस और बेलारूस से यूरिया जैसे फर्टिलाइजर्स का सस्ता कच्चा माल भी खरीदने पर गौर कर रही है. इससे सरकार को खाद सब्सिडी के मोर्चे पर बड़ी राहत मिल सकती है.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.