free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / एक बिटकॉइन की कीमत हुई इतने लाख रूपये

एक बिटकॉइन की कीमत हुई इतने लाख रूपये

पिछले कुछ समय से सारी दुनिया में क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन ने तहलका मचाया हुया है इस क्रेज़ इस कद्र बढ़ चूका है कि तुरंत मुनाफे के लिए बड़े निवेशक इसका रुख कर रहे हैं जिसके चलते इसकी कीमत में तेजी से उछाल आ रहा है. बुधवार को बिटकॉइन की कीमत में 4.5 फीसदी की रिकार्ड तोड़ तेजी दर्ज की गई. जिससे इसकी कीमत 20,440 डॉलर (करीब 15.02 लाख रुपये) पर पहुंच गई. बता दें नवंबर महीने में बिटकॉइन का भाव 18 हजार डॉलर के स्तर को पार चुका था.

क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी?
बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी होती है, जो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित है. इस करेंसी में कूटलेखन तकनीक का प्रयोग होता है. इस तकनीक के जरिए करेंसी के ट्रांजेक्शन का पूरा लेखा-जोखा होता है, जिससे इसे हैक करना बहुत मुश्किल है. यही कारण है कि क्रिप्टोकरेंसी में धोखाधड़ी की संभावना बहुत कम होती है. क्रिप्टोकरेंसी का परिचालन केंद्रीय बैंक से स्वतंत्र होता है, जो कि इसकी सबसे बड़ी खामी है.

बिटकॉइन की डिमांड ने घटाई सोने की कीमत
अमेरिकी बैंक JP Morgan Chase & Co. के मुताबिक, सोने की कीमत में हाल में आई गिरावट के लिए निवेशकों की क्रिप्टोकरेंसीज के प्रति दीवानगी को जिम्मेदार माना जा रहा है. अगस्त से अब तक सोने की कीमत में करीब 7000 रुपये तक की गिरावट आ चुकी है. बता दें कि अगस्त में सोने के दाम यह 56200 रुपये प्रति 10 ग्राम के रेकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था. बैंक के स्ट्रैटजिस्ट्स का कहना है कि अक्टूबर से बिटकॉइन फंड्स में काफी पैसा निवेश हुआ है जबकि निवेशकों ने सोने से दूरी बनाई है.

2 महीने में करीब 2 अरब डॉलर का हुआ निवेश
लिस्टेड सिक्योरिटी फर्म The Grayscale Bitcoin Trust की रिपोर्ट के मुताबिक, अक्टूबर से बिटकॉइन में करीब 2 अरब डॉलर का निवेश हुआ है जबकि गोल्ड एक्सचेंज फंड्स से 7 अरब डॉलर निकाले गए हैं. JP Morgan के मुताबिक फैमिली ऑफिस एसेट्स में बिटकॉइन की हिस्सेदारी महज 0.18 फीसदी है जबकि गोल्ड ईटीएफ का हिस्सा 3.3 फीसदी है.

जानिए कैसे होती है बिटकॉइन में ट्रेडिंग?
बिटकॉइन ट्रेडिंग डिजिटल वॉलेट (Digital wallet) के जरिए होती है. बिटकॉइन की कीमत दुनियाभर में एक समय पर समान रहती है. इसलिए इसकी ट्रेडिंग मशहूर हो गई. दुनियाभर की गतिविधियों के हिसाब से बिटकॉइन की कीमत घटती बढ़ती रहती है. इसे कोई देश निर्धारित नहीं करता बल्कि डिजिटली कंट्रोल (Digitally controlled currency) होने वाली करंसी है. बिटकॉइन ट्रेडिंग का कोई निर्धारित समय नहीं होता है. इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव भी बहुत तेजी से होता है.

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *