free tracking
Breaking News
Home / जरा हटके / गरीब होने के कारण लोग उड़ाते थे मजाक,आज बुर्ज खलीफा में है खुद के 22 फ्लैट

गरीब होने के कारण लोग उड़ाते थे मजाक,आज बुर्ज खलीफा में है खुद के 22 फ्लैट

जब कोई इंसान अपने जीवन में सफल हो जाता है अपनी मंजिल तक पहुँच जाता है .वो वंहा तक ऐसे ही नही पहुंचता उसके पीछे उस इंसान द्वारा किया हुआ बहुत संघर्ष और मेहनत होती है . जीवन में उसे बहुत को झेलना पड़ता है .लोगो द्वारा उनका मजाक बनाया जाता है . जरूरत के समय कोई उनका साथ नही देता .ऐसे में अपने पर पूरा भरोसा रखते हुए कभी हार न मानते हुए बस वो अपनी मंजिल की और चलता रहता है .आज के इस लेख में हम आपको ऐसे ही शख्स के बारे में बताने वाले है .जो कभी कपास के बीजों को साफ करके गम बनाने का काम करते थे लेकिन आज बुर्ज खलीफा में 22 फ़्लैट के मालिक है .

हम जो कहानी की बता रहे हैं, वह एक ऐसे शख़्स की है, जो अपनी मेहनत के दम पर मैकेनिक से बिजनेसमैन बने और प्रसिद्ध बुर्ज खलीफा (Burj Khalifa) बिल्डिंग में 22 फ़्लैट खरीदकर अपनी अलग पहचान बनाई। हालांकि कामयाबी तक पहुँचने का उनका यह सफ़र काफ़ी संघर्षपूर्ण रहा, गरीब होने की वज़ह से उनके रिश्तेदारों और समाज के लोगों ने उनका कई बार मज़ाक उड़ाया व अपमानित किया। पर इस शख़्स ने लोगों की बातों पर ध्यान न देते हुए कड़ी मेहनत से अपना एक साम्राज्य स्थापित किया, इतना ही नहीं, दुनिया की सबसे ऊँची ईमारत में बहुत से फ़्लैट के मालिक भी बने।

जार्ज वी नेरियापरामबिल (George V Nereaparambil)

जार्ज वी नेरियापरामबिल (George V Nereaparambil) केरल के रहने वाले हैं। वे एक किसान परिवार से संबंध रखते हैं। जार्ज वी ने लगभग 11 वर्ष की आयु में ही अपने पिता के व्यवसाय में हाथ बटाने लगे थे। उनके गांव में अधिकतर लोग कपास का व्यवसाय करते थे। व्यापारियों द्वारा फेंके गये कपास के बीजों को साफ कर के गम बनाने के कारोबार से जार्ज वी ने अपनी जिन्दगी के सफर की शुरुआत की।

शारजाह जाकर बदली क़िस्मत

कपास के व्यवसाय के बाद जॉर्ज ने कुछ समय मैकेनिक के तौर पर भी काम किया। इसी तरह उन्होंने बहुत से छोटे-मोटे व्यापार किए और वर्ष 1976 में शारजाह चले गए। शारजाह में गए तो वहाँ उन्हें लगा कि वहाँ गर्म जलवायु में एयर कंडीशनिंग का कारोबार अच्छा चल सकता है। बस, फिर क्या था, जॉर्ज ने ख़ूब मेहनत करके उसके बाद अपनी मेहनत के दम पर उन्‍होंने JEO ग्रुप ऑफ कंपनीज का साम्राज्‍य खड़ा कर दिया। जॉर्ज कहते हैं “मैं सपने देखने वाला शख्‍स हूँ और सपने देखना कभी नहीं छोडूंगा!”

इस घटना की वज़ह से खरीदे बुर्ज खलीफा में 22 फ्लैट

आप सोचते होंगे जॉर्ज ने इसी बुर्ज़ खलीफा में इतने सारे फ़्लैट आख़िर क्यों खरीदे होंगे? तो आपको बता दें कि इतने सारे फ़्लैट खरीदने के पीछे एक रोचक घटना है। असल में हुआ यूं कि जॉर्ज और उनके कुछ सगे-सम्बंधी 828 मीटर ऊंची इस बुर्ज खलीफा बिल्डिंग को देखने गए। तब उनके रिश्तेदारों ने उनका मज़ाक उड़ाया और कहने लगें की, “देखो यह बुर्ज खलीफा है। इस बिल्डिंग में तुम घुस भी नहीं सकते हो।”

जॉर्ज को यह सुनकर बहुत अपमानित महसूस हुआ, उस वक़्त भले ही वे गरीब थे, पर उन्होंने मन ही मन निश्चय कर लिया था कि अब तो वे इस मज़ाक को हक़ीक़त बनाकर ही दम लेंगे। फिर उस घटना के 6 सालों बाद ही जॉर्ज ने बुर्ज खलीफा में एक या दो नहीं, बल्कि पूरे 22 फ़्लैट खरीद लिए। जिस बिल्डिंग में कभी उन्हें घुसने भी नहीं दिया जा रहा था, कुछ ही सालों में उसमें 22 फ़्लैट का मालिक बनना निश्चित रूप से बड़ी सफलता है।

अब नहर तैयार करने की योजना

खलीज टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, जॉर्ज अब त्रिवेंद्रम से कसाराकोड को जोड़ने हेतु एक नहर भी बनाना चाहते हैं। यह नहर कुछ ख़ास कारणों से तैयार की जाएगी। इससे पन-बिजली पैदा करने की प्लानिंग भी की जा रही है और साथ ही इसके पानी से खेतों में सिंचाई व मछली पालन इत्यादि व्यवसायों को भी बढ़ावा मिलेगा।

कुछ लोग तिरस्कार का बदला लेने के लिए दूसरों को भी तिरस्कृत करते हैं परंतु जार्ज वी नेरियापरामबिल (George V Nereaparambil) ने अपने तिरस्कार का बदला कुछ अलग तरीके से लिया और जीवन में सफल व्यक्ति बन कर सबका मुंह बंद कर दिया। उनका दृढ़ निश्चय और ख़ुद पर भरोसा और मेहनत तारीफ-ए-काबिल है।

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *