free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / पा”किस्तान की पीड़िता ने PM मोदी से मांगी मदद बोली मुझे भारत आने दें यहाँ मेरे बच्चों और मेरी जान को खतरा

पा”किस्तान की पीड़िता ने PM मोदी से मांगी मदद बोली मुझे भारत आने दें यहाँ मेरे बच्चों और मेरी जान को खतरा

दोस्तों आये दिन न जाने कितनी लडकियों, महिलाओ के साथ कोई न कोई घटना घट जाती है .जो दुसरे दिन न्यूज पेपर की हेड लाइन बन जाती है . कुछ महिलाए और लडकिया अपने साथ हुयी बदसलूकी के खिलाफ आवाज़ उठा पाती है लेकिन कुछ डर और बेइज्जती के कारण चुप हो जाती है . जो महिलाए चुप हो जाती है उनके ऐसा करने से आरोपियों की हिम्मत और बढ़ जाती है . लेकिन जो महिलाये सामने आकर इन्साफ पाने की हिम्मत दिखाती है .सालो प्रयास करने पर भी उसके हाथ कुछ नही लगता, हाथ लगती भी है तो बस निराशा .ऐसे में उस पीडिता को समझ नही आता वो कंहा जाए किससे  मदद मांगे . आज हम आपको ऐसे ही एक मामले के बारे में बताने वाले है . जिसमे पा”किस्तान  की गैं”गरेप पीड़िता ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लगाई मदद की गुहार जिसका  वीडियो सोशल मिडिया पर वायरल हो रहा है . महिला के साथ ये घटना कब और कैसे घटी और इस मामले से जुडी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढ़े .

पीड़िता ने एक वीडियो मैसेज में पीएम मोदी से अपील करते हुए कहा है कि उसकी और उसके बच्चों की जान खतरे में है, इसलिए उसे एक सुरक्षित आवास और माहौल उपलब्ध कराया जाए. मारिया के साथ गैंगरेप की घटना को साल 2015 में अंजाम दिया गया था.मारिया ताहिर (Maria Tahir) तब से ही अपराध में शामिल आरोपियों के खिलाफ कड़ी सजा की मांग को लेकर दर-दर भटक रही हैं. भावनात्मक वीडियो मैसेज में उन्होंने अपने साथ हुई दरिंदगी के बारे में बताया और कहा, ‘हारून राशिद, ममून राशिद, जमील शफी, वकास अशरफ, सनम हारून और तीन और लोगों ने मेरे साथ गैंगरेप किया. मैं पिछले सात सालों से न्याय के लिए लड़ रही हूं. PoJK की पुलिस, सरकार और न्यायपालिका मुझे न्याय दिलाने में विफल साबित हुईं हैं.

PM मोदी से की भारत आने के लिए इजाजत देने की अपील

उन्होंने कहा, ‘इस वीडियो के जरिए मैं भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील कर रही हूं कि मुझे भारत आने की इजाजत दें. मेरे बच्चों को जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं. स्थानीय पुलिस और नेताओं से जान का खतरा बताते हुए ताहिर ने आगे कहा, ‘स्थानीय पुलिस और एक वरिष्ठ राजनेता, चौधरी तारिक फारूक कभी भी मुझे और मेरे बच्चों को मार सकते हैं. मैं पीएम मोदी से अपील करना चाहती हूं कि हमें आवास और सुरक्षा प्रदान करें.’

नेताओं और पुलिस से नहीं मिली कोई मदद

मारिया ने पुलिस और स्थानीय राजनेताओं से संपर्क साधने की तमाम कोशिशें कीं, मगर न्याय पाने में असफल रहीं. मारिया ने बताया कि उन्होंने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (Pakistan Occupied Kashmir) के मुख्य न्यायाधीश सहित कई स्थानीय अधिकारियों को कई लैटर लिखे, मगर हर बार उन्हें अपमानजनक जवाब मिला कि वो एक विवाहित महिला हैं. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में कई महिलाएं रेप पीड़िताएं (Rape Victims) हैं, मगर उनके परिवार सार्वजनिक रूप से अपराधियों का सामना करने से डरते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें डर है कि कहीं उन्हें समुदाय द्वारा त्याग ना दिया जाए.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.