free tracking
Breaking News
Home / बॉलीवुड / आ’तंकवादियों को स्पोर्ट करने वाले ही”द कश्मीर फाइल्स”का विरोध कर रहे है-बोले विवेक अग्निहोत्री

आ’तंकवादियों को स्पोर्ट करने वाले ही”द कश्मीर फाइल्स”का विरोध कर रहे है-बोले विवेक अग्निहोत्री

दोस्तो फिल्म कश्मीर फाइल्स में कश्मीरी पंडितो का दिखाया गया नरसंहार और उन पर किए गए अत्याचारों को देख कर जन्हा लोगो की आंखों से आंसू बहने लगे और वो भावुक हो गए वही इस फिल्म में दिखाई गई सच्चाई लोगो को बहुत पसंद आ रही है ।कश्मीरी पंडितो के जीवन की सच्चाई दिखाने की हिम्मत करने वाले निर्देशक विवेक अग्निहोत्री और इस फिल्म में अभिनय करने वाले सितारों की सभी तारीफ कर रहे है ।लेकिन कुछ लोग इस फिल्म का  विरोध कर इस फिल्म को इस्लाम विरोधी बताते हुए नजर आ रहे है जिसके बाद निर्देशक विवेक अग्निहोत्री और पल्लवी जोशी ने इस मामले पर बात करते हुए कहा है कि आ’तंकवादियों को स्पोर्ट करने वाले ही इस द कश्मीर फाइल्स का विरोध कर रहे है ।

‘हमने एक ईमानदार फिल्म बनाई है’
विवेक और पल्लवी का कहना है कि उन्होंने एक ईमानदार फिल्म बनाई है जो इतिहास की कड़वी सच्चाई को दिखाती है। उन्होंने कहा कि उनकी फिल्म आतंकवाद का खुलकर विरोध करती है। फिल्म के राजनीति से प्रेरित होने के आरोपों पर विवेक ने कहा, ‘मैं इसे दूसरे तरीके से कह सकता हूं कि पूरी पॉलिटिक्स ही कला है।’ फिल्म की सफलता पर पल्लवी जोशी ने कहा कि फिल्म को केवल बिजनस करने के लिए नहीं बनाया गया था। उनका कहना है कि लोग हमारे पास आ रहे हैं, तारीफ कर रहे हैं और आगे की फिल्मों के लिए आइडिया दे रहे हैं। पल्लवी ने कहा कि लोग फिल्म से जुड़ रहे हैं और उनकी तारीफ ही सबसे बड़ी संतुष्टि है।

‘आलोचना करने वाले आतंकवादियों के सपोर्टर’
फिल्म पर लोगों को बांटने, ध्रुवीकरण करने के आरोप लग रहे हैं। इस मुद्दे पर विवेक ने कहा, ‘मुझे लगता है यह लोकतंत्र के लिए बड़ी समाजसेवा है क्योंकि आप बुरे और अच्छे लोगों का ध्रुवीकरण कर रहे हैं। असल में, मैं ध्रुवीकरण शब्द का इस्तेमाल ही नहीं करूंगा। मैं कहूंगा कि इस फिल्म के जरिए इंसानियत, मानवाधिकारों का समर्थन करने वाले और आतंकवाद के व्यवसाय वाले लोगों में अंतर किया है। जो लोग आतंकवादियों का समर्थन कर रहे थे, वे अब एक तरफ हैं और हमारी तरफ इंसानियत का समर्थन करने वाले लोगों की बड़ी संख्या है। इस फिल्म को 2 करोड़ से ज्यादा लोग देख चुके हैं और आपको एक आदमी नहीं मिलेगा जो कहे कि यह ध्रुवीकरण करने वाली फिल्म है। जो लोग आतंकवादियों का समर्थन करते हैं वही फिल्म की आलोचना कर रहे हैं। यह फिल्म राम और रावण के बीच अंतर करती है।’ फिल्म के विरोध करने वालों से बात करने पर विवेक ने कहा, ‘मैं क्यों आतंकवादियों से बात करूंगा। मैं तो इंसानियत का सपोर्ट करने वाले लोगों से कहूंगा कि इन आतंकवादियों को हराएं और इन्हें तबाह कर दें।

‘इस्लाम विरोधी नहीं है फिल्म’
‘द कश्मीर फाइल्स’ पर मुस्लिम विरोधी फिल्म होने के आरोप लग रहे हैं। इस पर पल्लवी जोशी ने कहा, ‘दुर्भाग्य से जिन लोगों को कश्मीर घाटी से बाहर किया गया वह धार्मिक आधार पर था। यह एक धार्मिक लड़ाई थी। जब भी हम आतंकवाद की बात करते हैं तो इसे एक खास धर्म से जोड़ दिया जाता है। हालांकि हम फिल्म में धर्म की बात नहीं कर रहे हैं बल्कि केवल उन चंद आतंकवादियों की बात कर रहे हैं जिन्होंने घाटी को तबाह कर दिया और इसकी संस्कृति, विरासत और परंपरा को खत्म कर दिया। इसलिए जब भी हम कश्मीर में हिंसा की बात करेंगे तो बताएंगे कि उन्होंने धर्म के नाम पर कैसे नारे लगाए। हमें पता था कि समाज का एक हिस्सा फिल्म को देखे बिना यह आरोप लगाएगा कि हमने एक इस्लाम विरोधी फिल्म बनाई है। लेकिन खुशी की बात है कि लोगों ने फिल्म देखी। यह फिल्म किसी धर्म नहीं बल्कि आतंकवाद के खिलाफ है।’

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published.