free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / योगी मिटायेंगे मुगलों के निशान ,इन 12 शहरों के बदलेंगे नाम

योगी मिटायेंगे मुगलों के निशान ,इन 12 शहरों के बदलेंगे नाम

दोस्तों  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  के हाथ में ऐ बार फिर से उत्तर प्रदेश की सत्ता की कमान आ गयी है . योगी आदित्यनाथ जी फुल एक्शन के साथ अपने कामो को अंजाम देने में जुट गये है .सबसे पहले अवैध निर्माण और कब्जो पर बाबा का बुलडोजर चला उसके साथ ही अपनी बैठकों में योगी आदित्यनाथ जी चेतावनी दे चुके हैं कि जनता के काम को नजरअंदाज करने वालो के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी . इसके साथ कुछ श्र्ह्रो के नामकर्ण की खबर सामने आ रही है खबर के मुताबिक यूपी में 12 शहरों के नाम बदलने की तैयारी है जिनमे से 6 शहरों के नाम पहले बदले जाएंगे. किन शहरों के नाम बदले जा रहे है और क्या होगे उनके नये नाम जानने के लिए खबर को अंत तक जरुर पढ़े .

सबसे पहले इन का नंबर

रिपोर्ट के मुताबिक इस लिस्ट में अलीगढ़, फर्रुखाबाद, सुल्तानपुर, बदायूं, फिरोजाबाद और शाहजहांपुर का नाम शामिल है. अलीगढ़ का नाम बदलने के लिए पिछले साल 6 अगस्त, 2021 को पंचायत कमेटी ने अपने नए अध्यक्ष विजय सिंह की अगुआई में नाम बदलने के साथ नए नाम का प्रस्ताव भी पारित किया था. अब इस जिले का नाम हरिगढ़ या फिर आर्यगढ़ रखने की तैयारी की जा रही है. वहीं फर्रुखाबाद जिले से भी लगातार दूसरी बार सांसद बने मुकेश राजपूत ने हाल ही में फर्रुखाबाद का नाम बदलकर पांचाल नगर करने की मांग की है. उन्होंने योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कहा है कि यह जिला द्रौपदी के पिता द्रुपद पांचाल राज्य की राजधानी थी. इसीलिए इसका नाम पांचाल नगर होना चाहिए.इसी तरह सुल्तानपुर की लंभुआ सीट से बीजेपी के विधायक रहे देवमणि द्विवेदी जिले का नाम बदलकर ‘कुशभवनपुर’ करने का प्रस्ताव सरकार को भेज चुके हैं. शाहजहांपुर से विधायक रहे मानवेंद्र सिंह ने योगी सरकार के पास जिले का नाम बदलने का प्रस्ताव भेज चुके हैं. उन्होंने शाहजहांपुर का नाम ‘शाजीपुर’ रखने का सुझाव दिया है. इसी तरह फिरोजाबाद में 2 अगस्त 2021 को हुई बैठक में जिले का नया नाम चंद्र नगर रखने का प्रस्ताव पारित हुआ था. हालांकि बदायूं का नाम बदलने के लिए अभी कोई प्रस्ताव नहीं आया है, लेकिन सीएम योगी की लिस्ट में इस जिले का भी नाम है.

बता दें कि UP के मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर में स्थित मठ के महंत हैं. यूपी का सीएम बनने से पहले ही उन्होंने गोरखपुर का सांसद रहने के दौरान कई इलाकों का नाम बदलवा दिया था. इस कड़ी में उर्दू बाजार को हिंदी बाजार, हुमायूंपुर को हनुमान नगर, मीना बाजार को माया बाजार और अलीनगर को आर्य नगर किया गया था. वहीं उनके पिछले कार्यकाल में मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम पं. दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर किया गया, तो इलाहाबाद को प्रयागराज और फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया गया.

इन जिलों में भी तैयार हो रहे प्रस्ताव

आगरा- अंबेडकर यूनिवर्सिटी में आगरा की जगह अग्रवन जिले का नए नाम के पक्ष में साक्ष्य जुटाने का काम चल रहा है.

मैनपुरी- 16 अगस्त को ही मैनपुरी में जिला पंचायत स्तर की एक बैठक के बाद नया नाम मयान पुरी करने की मांग की गई.

गाजीपुर- यहां से दिग्गज नेता कृष्णानंद राय की पत्नी अलका राय एक साल पहले ही गाजीपुर का नाम बदलकर गढ़ीपुरी करने की मांग कर चुकी हैं.

कानपुर- कानपुर देहात के रसूलाबाद और सिकंदराबाद और अकबरपुर रनियां में नामों को लेकर प्रस्ताव बनाने के लिए प्रशासन को निर्देश मिले हैं.

संभल- जिले का नाम कल्कि नगर या फिर पृथ्वीराज नगर करने की मांग उठ रही है.

देवबंद- ‌BJP विधायक ब्रजेश सिंह रावत ने भी देवबंद का नाम देववृंदपुर करने की मांग की है.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.