free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / अपनी जान की फ़िक्र छोड़कर लोगो की जान बचाने दौड़ गया ये शख्श, बचा ली हज़ारों यात्रियों की जान

अपनी जान की फ़िक्र छोड़कर लोगो की जान बचाने दौड़ गया ये शख्श, बचा ली हज़ारों यात्रियों की जान

दोस्तों आपने अक्सर फिल्मो में हीरो को किसी न  किसी की जान बचाते हुए जरुर देखा होगा . सभी को पता होता है ये सब सच नही है पर फिर भी सब हीरो के फैन हो जाते  है और हीरो भी अपने अभिनय से सभी के दिलो में ख़ास जगह बना लेते है .आपको बता दे कुछ रियल लाइफ हीरो होते है जो सच में कोई न कोई ऐसा काम करते है कि कोई भी उनकी तारीफ करने से अपने को रोक नही पाते लेकिन ऐसे हीरो को सब बस कुछ समय के लिए ही याद रखते है और फिर भूल जाते है लेकिन ये रियल लाइफ हीरो अपना काम वैसे ही करते रहते है आज हम आपको एक ऐसे हीरो के बारे में बताने वाले है जिसने अपनी जान की फ़िक्र न करते हुए दिलाया कितनो को जीवन दान .

 

गुजरात के एक शख़्स ने अपनी जान की परवाह किए बग़ैर सैंकड़ों मासूम ज़िन्दगियां बचा लीं. इस युवक ने टूटी रेलवे ट्रैक देखी और ड्राइवर को सूचित करने के लिए 1 किलोमीटर दौड़ गया. IAS अवनिश शरन (IAS Awanish Saran) ने युवक की कहानी ट्विटर पर शेयर की.राकेश बारिया नामक दिल्ली – मुंबई रूट पर, गुजरात के दाहोद ज़िले में राकेश ने टूटी रेलवे ट्रैक देखी. घटना के दो दिन बाद पश्चिम रेलवे के रतलाम डिविज़न ने 5000 रुपये का इनाम देकर राकेश की पीठ थपथपाई. सम्मानित होने के बाद राकेश ने बताया कि वो बकरियां चरा रहा था जब उसने देखा कि रेल की पटरी एक जगह से टूटी हुई है. वो लोगों को सूचित करने के लिए 1 किलोमीटर भागा लेकिन उसे कोई रेलवे कर्मचारी नज़र नहीं आया.

राकेश ने बताया कि इसके बाद उसने अपने पिता को फ़ोन किया. राकेश के पिता ने फ़ोन पर रेलवे कर्मचारियों को सूचित करने की कोशिश की लेकिन असफ़ल रहे. पिता के कहने पर राकेश अपने घर गया और लाल रंग का कपड़ा लेकर आया. इसके बाद राकेश जहां पटरी टूटी थी वहां से 2 किलोमीटर आगे बैठा और लाल कपड़ा दिखाने लगा, सामने से एक मालगाड़ी आ रही थी. राकेश को देखकर लोको पायलट ने इमरजेंसी ब्रेक्स लगाए. इसके बाद टूटी पटरी को ठीक किया गया.

ट्विटर पर राकेश की तारीफ़ हो रही है लेकिन इसके साथ ही लोग 5000 रुपये की राशि देने पर सवाल भी कर रहे हैं

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.