free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / मुसलमानों को भारत में रहने का नही है अधिकार वोट का अधिकार भी वापिस लो

मुसलमानों को भारत में रहने का नही है अधिकार वोट का अधिकार भी वापिस लो

दोस्तों संभल के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी इन दिनों अपने बयान की वजह से सुर्खियों में है . उनके द्वारा दिए गये इस बयान की चारो और चर्चा हो रही है .दरअसल महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी ने अपने बयान में मु सलमानों को लेकर बहुत कुछ कहा है जिसके बाद बहुत से लोग उनके इस बयान पर अपनी -अपनी प्रतिक्रिया देते हुए नज़र आ रहे है .अपने इस बयान में महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी ने क्या कहा है जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े .

संभल के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी ने दिया बयान

संभल के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी (Swami Yatindranand Giri) अपने बयानों के कारण सम स्या पर चर्चा में रहते हैं। इससे पहले उन्होंने भारत (India) को हिंदू राष्ट्र (Hindu Rashtra) बनाने को लेकर भी एक बयान दिया था। उनके द्वारा बयान देने के बाद ही लोग उनके समर्थन में आ गए थे। हाल ही में संभल के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी ने अपने बयान में कहा है कि मु सलमानों को भारत में रहने का कोई भी अधिकार नहीं है। इन लोगों को एक अलग देश दे दिया गया था। इसके बावजूद भी ये लोग हमारे देश में रहते हैं।

मु सलमानों से वोट का अधिकार ले लेना चाहिए– महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी

संभल के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी हाल ही में मु सलमानों को लेकर बयान देते हुए कहा है कि इन लोगों को वोट का अधिकार देना सही नहीं है। भारत सरकार द्वारा इस समुदाय के लोगों से वोट का अधिकार ले लेना चाहिए। क्योंकि इन्हें एक अलग देश दे दिया गया था। यह लोग चाहे तो वहां जाकर अपना वोट दे सकते हैं। भारत हमारा देश है। हमारे देश में सरकार बनाने के लिए इन लोगों के वोट की जरूरत नहीं है।

मु सलमानों को मिले दोयम दर्जा– महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी

संभल के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी ने कहा है कि इन लोगों को दोयम दर्जा देना चाहिए। हमारे देश में अलग-अलग समुदाय के लोग रहते हैं। लेकिन एक विशेष समुदाय को ही स्वतंत्रता के समय अलग देश दिया गया था। हमारे देश में सभी समुदाय के लोग रह सकते हैं। लेकिन मु सलमानों को दोयम दर्जे का मानना चाहिए। क्योंकि उनका एक अलग देश है। जब इन लोगों ने अपना हि स्सा ले लिया है, तो इन्हें एक समान अधिकार क्यों दिया जाए।

 

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *