free tracking
Breaking News
Home / राजनीती / अस्पताल में झाड़ू पोचा लगाने से लेकर विधायक बनने तक का सफ़र, शादी के 9 दिन बाद ही किसी ने की पति की ह’त्या,

अस्पताल में झाड़ू पोचा लगाने से लेकर विधायक बनने तक का सफ़र, शादी के 9 दिन बाद ही किसी ने की पति की ह’त्या,

दोस्तों जीवन में कब क्या हो जाये कुछ कहा नही जा सकता .इंसान  का समय एक सा नही रहता .यदि आज किसी का समय अच्छा नही है अभी उसको जीवन गरीबी में व्यतीत करना पड  रहा है . तो कल उसका अच्छा समय भी आएगा और वो जीवन में अपनी हर इच्छा पूरी कर पायेगा .लेकिन सुख दुःख जीवन का हिस्सा है इंसान इससे अपना पीछा नही छुड़ा सकता .आज हम आपको एक पंचर बनाने वाले की बेटी के बारे में बताने वाले है जो कभी अस्पताल में झाड़ू पोछा लगाया करती थी. फिर उसकी शादी हो गयी .लेकिन किस्मत को कुछ  और ही मंजूर था . शादी को अभी नौ दिन ही हुए थे कि उसके पति की किसी ने ह-त्या करदी .उसके बाद हुयी उस लड़की के संघर्ष की कहानी यदि आप भी उसके बारे में जानना चाहते हो तो खबर को अंत तक पढ़े .

उत्तर प्रदेश की राजनीति में कई ऐसे नाम हैं जो अपने पति या पिता की राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ा रहे हैं. ऐसा ही एक नाम है समाजवादी पार्टी की नेता पूजा पाल का.

पूजा पाल अभी समाजवादी पार्टी में हैं लेकिन उन्होंने अपनी राजनीतिक पारी बसपा के साथ शुरू की थी. पूजा पहली बार 2007 में बीएसपी के टिकट पर विधायक बनी थीं.

पूजा पाल के पति राजू पाल भी बसपा के विधायक थे. वह 2004 में इलाहाबाद पश्चिम सीट से विधायक चुने गए थे. पूजा पाल और राजू पाल ने 16 जनवरी 2005 को शादी रचाई.

2012 में पूजा पाल के खिलाफ खुद अतीक अहमद ने सपा के टिकट पर चुनाव लड़ा. लेकिन पूजा पाल ने उन्हें भी पराजित कर दिया.

राजू पाल के निधन के बाद पूजा पाल ने राजनीति में कदम रखा और उसी सीट से चुनाव लड़ा जहां से उनके पति लड़ा करते थे.2007 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने अतीक अहमद के भाई मोहम्मद अशरफ को बुरी तरह से पटखनी दी और विधानसभा पहुंची.

2017 में पूजा पाल ने बसपा का साथ छोड़ सपा का दामन थाम लिया. अखिलेश यादव ने उन्हें 2019 में समाजवादी पार्टी के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़वाया लेकिन वह जीत नहीं पाईं.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *