free tracking
Breaking News
Home / बॉलीवुड / पहली मुलाकात में ही JRD टाटा ने दिलीप कुमार को सिखाया था सबक,देखते ही फेर लिया था मुंह

पहली मुलाकात में ही JRD टाटा ने दिलीप कुमार को सिखाया था सबक,देखते ही फेर लिया था मुंह

बॉलीवुड के बादशाह और ट्रे’जेडी किंग दिलीप कुमार  को शायद ही कोई ऐसा होगा जो हमारे देश में जो न जानता हो। दिलीप कुमार  को देख कर धर्मेंद्र समेत कई अभिनेता, अभिनय की ओर बढ़े थे। दिलीप कुमार को बॉलीवुड में महानायक अभिनेता के रूप में जाना जाता है, लेकिन एक बार देश के सबसे बड़े बिजनेसमैन जेआरडी टाटा(JRD Tata) उनके स्टारडम को एक झटके में उतार दिया था। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि यह क्यों और कैसे हुआ, जब दिलीप कुमार का सारा का सारा स्टारडम धरा रह गया था। दिलीप कुमार का फिल्मी करियर लगभग 50 साल से ज्यादा रहा था। वे फिल्मो में 1944 से 1998 तक दिखे थे।

दिलीप थे उस समय बुलंदियों पर

दिलीप कुमार बॉलीवुड के बादशाह थे और उनका सितारा बुलंदियों पर था और 60,70 और 80 के दशक में उनकी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाती थीं। दिलीप कुमार का स्टाडरडम काफी बढ़ चुका था। लोग उनसे मिलने के बहुत उत्सुक होते थे। वे जहां जाते वहां उनके चाहने वाले थे।

बगल की सीट पर बैठे थे टाटा

दिलीप कुमार उर्फ यूसुफ खान एक बार फ्लाइट से कही जा रहे थे और तभी उन्होंने देखा कि उनकी बगल की सीट पर देश के मशहूर बिजनेसमैन जेआरडी टाटा(JRD Tata) सफर कर रहे थे। आपको बता दें कि दिलीप कुमार ने अपनी बायोग्राफी ‘द सब्सटेंस एंड द शैडो’ में इस कहानी का जिक्र करते हुए बताया है कि जेआरडी टाटा(JRD Tata) ने उन्हें देखा और देखकर मुंह मोड़ लिया। हुआ यह कि वह उन्हें पहचान नहीं सके थे। दिलीप कुमार इस समय कुछ समझ नही पाए और दिलीप के लिए ये कम आश्चर्य की बात नहीं थी। अपने मन की जिज्ञासा को शांत करने के लिए दिलीप ने टाटा से पूछा कि आप फिल्में नहीं देखते। क्या? जेआरडी टाटा(JRD Tata) ने कहा कि वह बहुत कम फिल्म देखते हैं। दिलीप कुमार तुरंत समझ गए कि तभी वह उन्हें नहीं पहचान नहीं पाए है। दिलीप ने अपनी किताब में आगे लिखा है कि, ‘आप चुपचाप बैठे हैं, अपना विंडो व्यू एन्जॉय कर रहे हैं और अचानक से कोई एक्टर आपके बगल में आकर बैठ जाए तो आप क्या करेंगे? लेकिन जेआरडी टाटा(JRD Tata) ने मुझे कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

उतर गया था स्टारडम का भूत

इस वाक्या के बाद जेआरडी टाटा(JRD Tata) ने उनसे पूछा था कि आप क्या करते हैं, तब दिलीप कुमार ने बताया कि वह अभिनेता(एक्टर) हैं, लेकिन इसे बाद भी टाटा ने न तो कुछ पूछा न कहा और न ही दिलीप से ज्यादा बातें की। इस वाक्या से दिलीप कुमार को उस दिन सबसे बड़ा सबक मिला था, उन्होंने लिखा है कि- आप जिंदगी में कितने भी बड़े पद पर पहुंच जाए पर हमेशा आपसे बड़ा भी कोई ना कोई जरूर होगा। इस घ टना से साफ है कि दिलीप कुमार के सिर से स्टारडम का न शा उतर गया था।

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *