free tracking
Breaking News
Home / जरा हटके / जिसके कपड़े देख लोग समझ रहे थे गाँव की गंवार, वो तो निकली आईपीएस ऑफिसर

जिसके कपड़े देख लोग समझ रहे थे गाँव की गंवार, वो तो निकली आईपीएस ऑफिसर

दोस्तों कभी भी किसी को देख कर या किसी के पहनावे से किसी के बारे में कोई धारणा नही बनानी चाहिए .क्योकि कुछ लोग ऊँचे पद या औधे पर होने के बाद भी अपने संस्कार और संस्कृति नही भूलते . उन्ही में से एक है आईपीएस अधिकारी सरोज कुमारी जिन्हें अपने आईपीएस अधिकारी होने का जरा भी गुमान नही है और न ही इससे उनके रहन -सहन और पहनावे में कोई बदलाब आया है .आपको बता दे इन दिनों आईपीएस साहिबा के घर में खुशियों का माहौल बना हुआ है .भगवान ने उन्हें दोहरे आशीर्वाद से नवाज़ा है .उनके घर में दो नन्हे मेहमानों को आगमन हुआ है . जी हाँ आप ठीक समझ रहे हो आईपीएस सरोज कुमारी ने जुड़वां बच्चों को जन्म दिया है एक साथ सरोज एक बेटे और बेटी की माँ बन गयी है इस बात की जानकारी खुद आईपीएस सरोज कुमारी ने सोशल मिडिया पर दी है .

IPS ने शेयर की नवजात शिशुओं की तस्वीरें

आईपीएस अफसर सरोज कुमारी ने अपने दो नवजात बच्चों की फोटो शेयर करते हुए लिखा कि भगवान ने बेटे और बेटी को आशीर्वाद दिया है। अधिकारी कुमारी द्वारा शेयर की गई उनके पहले बच्चे की ये तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है. अब लोग उन्हें बधाई दे रहे हैं.

राजस्थान की माटी की बेटी हैं आईपीएस सरोज कुमारी

गुजरात पुलिस में ड्यूटी पर तैनात आईपीएस अफसर और राजस्थान की बेटी सरोज कुमारी के घर में खुशी का माहौल है. अक्सर वर्दी में नजर आने वाला यह आईपीएस बच्चों के जन्म के मौके पर अपनी ग्रामीण पृष्ठभूमि को नहीं भूला है। बच्चों को जन्म देने के बाद वह अपने पारंपरिक ग्रामीण महिलाओं के लहंगे के लहंगे में नजर आई हैं।

आईपीएस सरोज कुमारी ने डॉ मनीष सैनी से की शादी

गौरतलब है कि आईपीएस सरोज कुमारी की शादी दिल्ली के जाने माने डॉक्टर मनीष सैनी से हुई है। डॉ। मनीष सैनी और आईपीएस सरोज कुमारी की शादी जून 2019 में हुई थी। सरोज कुमारी के पति डॉ. मनीष सैनी ने भी इन नवजात बच्चों की तस्वीरें शेयर की हैं।

सरोज कुमारी सरकारी स्कूल में पढ़ती थी

आईपीएस सरोज कुमारी का जीवन संघर्ष उन लोगों के लिए एक मिसाल है जो सोचते हैं कि सरकारी स्कूलों में पढ़कर कुछ नहीं किया जा सकता। सरोज कुमारी ने अपनी प्राथमिक शिक्षा बुडानिया गांव के एक सरकारी स्कूल से पूरी की है। वह 2011 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। इसके साथ ही वह एकमात्र आईपीएस अधिकारी हैं जो माउंट एवरेस्ट फतेह करने के मिशन में शामिल थे।

उन्हें कोविड -19 महिला योद्धा पुरस्कार मिला है

 

बता दें, महिला आईपीएस अधिकारी सरोज कुमारी को कोरोना महामारी के दौरान उनके काम के लिए कोविड-19 महिला योद्धा से सम्मानित भी किया जा चुका है. उन्होंने तालाबंदी के दौरान जरूरतमंद लोगों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए साथी महिला पुलिसकर्मियों के साथ एक पुलिस किचन शुरू किया। इस दौरान लॉकडाउन में प्रतिदिन छह लोगों तक भोजन पहुंचाया गया।

गुजरात पुलिस की आईपीएस अधिकारी सरोज कुमारी ने अपने जीवन के कामों से अपना नाम बनाया है। जब वे बोटाद के एसपी थे तो उन्होंने जिस्म फारोशी के जाल से कई महिलाओं को छुड़ाया। वहीं वडोदरा में बारिश के दौरान लोगों को बचाते हुए उनकी तस्वीरें वायरल हुई थीं.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.