free tracking
Breaking News
Home / जरा हटके / पराये मर्द के प्यार में दीवानी हुई पत्नी तो पति ने ख़ुशी से करवा दी दोनों की शादी

पराये मर्द के प्यार में दीवानी हुई पत्नी तो पति ने ख़ुशी से करवा दी दोनों की शादी

दोस्तों आये दिन हम किसी न किसी के प्रेम की कहानिया सुनते रहते है .जिसे सुन हमे कोई फर्क नही पड़ता क्योंकि सबकी प्रेम कहानिया एक जैसी लगती है . लड़का लड़की प्रेम करते है और शादी कर  लेते है या लड़का लड़की प्रेम करते है दोनों के घर वाले नही  मानते ऐसे में या वो घर से भाग जाते है या परिवार वालो की मर्जी से शादी कर लेते है .लेकिन आज हम आपको एक अनोखी प्रेम कहानी के बारे  में बताने वाले है .ये प्रेम कहानी उत्तर प्रदेश के कानपुर से सामने  आई है . जो आजकल सोशल  मिडिया पर काफी वायरल हो  रही है .आखिर ऐसा भी क्या ख़ास है इस प्रेम कहानी में जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े .

दरअसल इस मामले का खुलासा आशा ज्योति केंद्र की उच्च अधिकारी निधि ने किया है. उन्होंने बताया की कुछ ही समय पहले पंकज नाम के सख्स की भौति प्रतापपुर की रहने वाली लड़की कोमल के साथ शादी हुई थी. लेकिन इनकी शादी के बाद लड़की के प्रेम प्रसंग के चलते इन दोनों की बीच काफी लड़ाई होने लगी. लेकिन जब महिला के पति ने सख्ती दिखाई तो उसने अपने प्रेम प्रसंग के बारे में अपने पति को बताया. महिला ने बताया की वह मुरली पुर निवासी पिंटू से प्रेम करती थी और उसी के साथ शादी भी करना चाहती थी.

आशा मुक्ति केंद्र की अधिकारी द्वारा कोमल से पति-पत्नी में हो रहे झगड़ों का कारण पूछा गया तब उन्हें बताया कि कोमल पहले से ही पिंटू नाम के लड़के से प्यार करती थी लेकिन उनके घर वालों ने जबरदस्ती उनकी शादी पंकज के साथ करा दी. इसी वजह से उन दोनों के बीच झगड़े होते रहते हैं. महिला ने बताया कि जब कोमल ने पंकज से शादी करने के लिए मना कर दिया था तब उनके घर वालों ने उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी. और फिर उनकी शादी पंकज के साथ करा दी.

आशा मुक्ति केंद्र के अधिकारी ने जब कोमल की ये बात सुनी तो उन्होंने कोमल के परिजनों और उसके पति पंकज के बीच एक पंचायत करवाई जिसमें सबकी सहमति लेकर कोमल का विवाह उसके प्रेमी पिंटू संग करवा दिया. वैसे उनके इस विवाह से उनके पति पंकज को भी कोई आपत्ति नहीं है. क्योंकि पंकज कहते है की, जिस रिश्ते में वह और उसकी पत्नी खुश नहीं है फिर उस रिश्ते का क्या फायेदा. अगर उसकी पत्नी पिंटू से प्रेम करती है और वह उसके साथ खुश रहना चाहती है तो मुझे इससे कोई आपत्ति नहीं है.

बता दे की सभी परिजनों की सहमति से पिंटू और कोमल का विवाह आशा मुक्ति केंद्र में ही बड़े धूमधाम से करवा गया. जिसके बाद कोमल के पति पंकज ने कहा कि दरअसल हमारे रिश्ते में प्रेम नहीं था इसलिए इस रिश्ते का खत्म होना ही बेहतर था अब मेरी पत्नी कोमल कम से कम अपने प्रेमी पिंटू के साथ खुश तो रहेगी. पंकज की ये बात सुनकर सभी लोग दंग रह गए.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.