free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / मुंबई आ”तंकी हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को आखिरकार कोर्ट ने दी सज़ा,31 साल तक खायेगा जेल की हवा

मुंबई आ”तंकी हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को आखिरकार कोर्ट ने दी सज़ा,31 साल तक खायेगा जेल की हवा

दोस्तों जैसा कि सभी को मालूम है कि आतंकवादियों को कौन पालता है कौन उन्हें पनाह देता है कौन उनका समर्थन करता है . अब ऐसे में उनाह देने वाला ही सजा दे तो कैसा लगता है ये बाद हजम होने वाली नही है . लेकिन अभी अभी एक ऐसी ही एक खबर सामने आई है .खबर के मुताबिक पाकिस्तान की अदालत द्वारा  लश्कर-ए-तैयबा के सरगना  को 31 साल की सजा सुनाई जाने की खबर आई है .आपजो बता दे ये सजा दो आतंकी मामलों के लिए सुनाई गयी है इसके साथ ही जुर्माना भी लगाया है . आपको बता दे लश्कर-ए-तैयबा के सरगना मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड  थे .यही नही इसके आलावा भी उन्होंने कई बार भारत पर आतंकी हमले करवाए है . लश्कर-ए-तैयबा के सरगना को मिली सजा के बाद लोगो का मानना है कि इस सजा से उन्हें कोई फर्क नही पड़ने वाला है . पूरा मामला जानने के लिए खबर को अंत तक जरुर पढ़े .

हाफिज को पहले भी सुनाई जा चुकी है जेल की सजा


हाफिज सईद को आतंकवाद निरोधी अदालत पहले भी जेल भेज चुकी है। 2020 में उसके खिलाफ कई टेरर फाइनेंसिंग मामलों में से एक में 15 साल से अधिक जेल की सजा सुनाई गई थी। हाफिज सईद संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित वैश्विक आतंकवादी है। सईद को 2008 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1267 के तहत वैश्विक आतंकवादियों की सूची में शामिल किया गया था। अमेरिका ने हाफिज सईद के सिर पर 10 मिलियन डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है। इसके बावजूद वह पाकिस्तान में धड़ल्ले से घूमता रहता है।

कौन है हाफिज सईद

हाफिज सईद पाकिस्तानी आंतकवादी है इसका जन्म 4 जून 1950 को पाकिस्तान के पंजाब में हुआ था। हाफिज सईद ने पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन लश्कर ए तैयबा का गठन किया था और फिलहाल जमात उल दावा नाम के आतंकवादी संगठन का प्रमुख है। हाफिज सईद अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आतंकवादी घोषित है हालांकि पाकिस्तान में यह खुलेआम घूमता है। इसे पाकिस्तानी सरकार और पाकिस्तान की सेना का पूरा समर्थन हासिल है।

मुंबई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड था हाफिज


अप्रैल 2012 में अमेरिका ने हाफिज सईद के सिर पर 1 करोड़ डॉलर का ईनाम घोषित किया था। हाफिज सईद की 2008 में हुए मुंबई हमले में अहम भूमिका रही है। इस आतंकवादी हमले में करीब 164 नागरिक मारे गए थे जिसमें 6 अमेरिकी नागरिक भी शामिल थे। हाफिज सईद भारत की मोस्ट वांटेड लिस्ट में टॉप पर शामिल है। हाफिज सईद का 2006 में मुंबई ट्रेन धमाके और 2001 में संसद पर हमले में भी हाथ है।

जमात उल दावा पर भी प्रतिबंध लगा चुके हैं दुनिया के कई देश

अमेरिका, भारत, यूके, ऑस्ट्रेलिया और यूरोपीय यूनियन हाफिज सईद के संगठन लश्कर ए तैयबा और जमात उल दावा पर 2008 से ही प्रतिबंध लगा चुके हैं। हाफिज सईद को पाकिस्तान सरकार कई बार गिरफ्तार कर चुकी है लेकिन कुछ समय बाद ही रिहा कर देती है। पाकिस्तान सरकर और पाकिस्तानी सेना से हाफिज सईद को सभी सुविधाएं मिलती हैं।

आतंकियों के खिलाफ इतना ऐक्शन क्यों ले रहा पाक?


पाकिस्तान फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF) की ग्रे लिस्ट से बाहर आने के लिए तड़प रहा है। खुद पाकिस्तानी सेना अपने देश को ग्रे लिस्ट से बाहर निकालने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है। इसलिए पाकिस्तान दिखावा करने में जुटा है कि उसने आतंक के खिलाफ कितने कदम उठाए हैं। मार्च में हुई FATF की पूर्णकालिक बैठक में भी पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ काम न करने पर ग्रे लिस्ट में ही रखने पर सहमति बनी थी। FATF ने कहा था कि पाकिस्तान ने उसकी 27 कार्ययोजनाओं में से केवल 21 को ही पूरा किया है। इसमें भारत में वांछित आतंकवादियों मौलाना मसूद अजहर और हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई न करना भी शामिल था।

 

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.