free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / सरकार खत्म करने जा रही है टोल टैक्स,बन्द हो सकता है फ़ास्ट टैग,शुरू हुई टेस्टिंग

सरकार खत्म करने जा रही है टोल टैक्स,बन्द हो सकता है फ़ास्ट टैग,शुरू हुई टेस्टिंग

दोस्तों पहले सभी को सफर के दौरान टोल प्लाजा पर कैश से भुगतान करना पड़ता था उसके बाद फास्टैग का सिस्टम  द्वारा टैक्स का भुगतान किया जाने लगा . लेकिन अब टोल टैक्स को लेकर अहम खबर सामने आ रही है . खबर के मुताबिक सरकार टोल टैक्स को खत्म करने का निर्णय लेने जा रही है .इसके साथ ही फ़ास्ट टैग भी बंद हो सकता है .जिसके बाद नई व्यवस्था लागू किये जाने की खबर आ रही है जिसका ट्रायल शुरू किया जा चूका है .पूरी खबर जानने के लिए खबर को अंत तक जरुर पढे .

अभी ये व्यवस्था यूरोपियन देशों में शुरू हो चुकी है। इस व्यवस्था के तहत सिस्टम के आधार पर किलोमीटर की गणना करके टोल टैक्स लिया जाएगा।बता दें कि सरकार ने 2020 में ही दिल्ली-मुंबई गलियारे में कमर्शियल ट्रकों में ऑन बोर्ड यूनिट और इसरो के नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम की मदद से एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया था, जो सफल रहा है। अब केंद्र सरकार ने नए सिस्टम को लागू करने के लिए कुछ जरूरी टेस्ट शुरू कर दिए हैं।

देश भर में चल रहा ट्रायल।

ट्रायल में देशभर की 1.37 लाख गाड़ियों को शामिल किया गया है। महाराष्ट्र में 38,680, दिल्ली में 29,705, उत्तराखंड में 14,401, छत्तीसगढ़ में 13,592, हिमाचल प्रदेश में 10,824 और गोवा में 9,112 वाहन ट्रायल में शामिल किए गए हैं। वहीं, मध्यप्रदेश, मणिपुर, सिक्किम और लद्दाख में अभी सिर्फ एक-एक वाहन पर यह ट्रायल चल रहा है। केंद्र सरकार रूस और दक्षिण कोरिया के कुछ विशेषज्ञों की मदद से एक स्टडी रिपोर्ट तैयार करा रही है। केंद्रीय परिवहन मंत्रालय के एक वरिष्ठ अफसर ने बताया कि नए सिस्टम को लागू करने से पहले परिवहन नीति में भी बदलाव करना जरूरी है। विशेषज्ञों की टीमें नीति में बदलाव के प्रस्ताव बिंदु तैयार कर रही हैं। अगले कुछ हफ्तों में रिपोर्ट तैयार हो जाएगी।

जर्मनी और रूस में इस्तेमाल हो रहा यह सिस्टम।

बता दें कि जर्मनी और रूस में सैटेलाइट नेविगेशन सिस्टम के इस्तेमाल से टोल संग्रह होता है। जर्मनी में 98.8% वाहनों से इसी सिस्टम से टोल लिया जा रहा है। टोल के लिए चिह्नित सड़क पर गाड़ी जितने किमी तक चलती है, उसी हिसाब से टोल की राशि लगती है। जैसे ही गाड़ी टोल के लिए चिह्नित सड़क से अलग होती है, किलोमीटर की गणना के हिसाब से गाड़ी मालिक के खाते से टोल कट जाता है। खाते से टोल कटने का सिस्टम वैसा ही है, जैसा भारत में फास्टैग का है। भारत में 97% वाहनों से फास्टैग के जरिए टोल वसूला जाने लगा है।

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.