free tracking
Breaking News
Home / देश दुनिया / यूक्रेन से बेटे के कुशलता से लौटने पर इमोशनल हुआ पिता, बोले ये मेरा बेटा नही….

यूक्रेन से बेटे के कुशलता से लौटने पर इमोशनल हुआ पिता, बोले ये मेरा बेटा नही….

दोस्तों जैसा कि सभी को मालूम है युक्रेन में भारत के बहुत से छात्र फंसे हुए थे . जिन्हें युक्रेन से ऑपरेशन गंगा के तहत वापिस देश लाया गया . भारत की जमीन पर आकर छात्रों में राहत की सांस ली उन्हें यकीन  नही हो पा रहा है कि वो सही सलामत अपने वतन लौट आये है . विदेश में फंसे अपने बच्चो के लिए चिंतित माता -पिता अपने बच्चो  को देख कर भावुक हो गये . अपने बेटे को देख एक पिता की आँखे नम हो गयी और भावनाओ में बह कर उन्होंने कह दी ये बात .

अभियान के तहत यूक्रेन के सूमी में फंसे भारतीयों को वापस लेकर एक विमान दिल्ली पहुंचा. उनके लौटने के बाद उनके रिश्तेदारों ने चैन  की सांस ली. कुछ ऐसे भी रहे जो भावुक हो गए. उन्हीं में से एक हैं संजय पंडिता. वह जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर के रहने वाले हैं और अपने बेटे ध्रुव को देखते ही उनकी आंखें भर आईं. उन्होंने अपने बेटे की वापसी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया.उन्होंने कहा कि मेरे बेटे की वापसी के लिए मैं पीएम मोदी को धन्यवाद देना चाहता हूं. उनके कारण ही मेरा बेटा वापस लौटा है. ये मेरा नहीं पीएम मोदी का बेटा है. संजय पंडिता ने कहा कि सूमी के हालातों को देखते हुए मैंने अपने बेटे की वापसी की उम्मीद छोड़ दी थी. मैं केंद्र सरकार का धन्यवाद करना चाहता हूं. वहीं ध्रुव ने कहा कि सूमी में रहना काफी कठिन था. भारत वापस आकर मैं राहत महसूस कर रहा हूं. ऑपरेशन गंगा मूहिम चलाने के लिए सरकार का धन्यवाद

इससे पहले सूमी शहर से निकाले गए भारतीय छात्रों को पोलैंड के ज़ेजॉ शहर से लेकर ‘एअर इंडिया’ का एक विशेष विमान शुक्रवार सुबह दिल्ली पहुंचा. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. विमान ने गुरुवार रात साढ़े 11 बजे ज़ेजॉ से उड़ान भरी थी और शुक्रवार सुबह पौने छह बजे वह दिल्ली पहुंचा.भारत, रूस के यूक्रेन पर हमला करने के बाद से युद्धग्रस्त देश में फंसे अपने नागरिकों को रोमानिया, हंगरी और पोलैंड के रास्ते स्वदेश ला रहा है. यूक्रेन के शहर सूमी से 600 छात्रों को निकालने का अभियान मंगलवार सुबह शुरू हुआ था.

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published.