Breaking News
Home / ताजा खबरे / 1 अगस्त से पहले निपटा ले ये 6 काम नही तो होगी समस्या

1 अगस्त से पहले निपटा ले ये 6 काम नही तो होगी समस्या

पिछले कुछ समय से झेल रहे आर्थिक संकट के दौरान सरकार ने कईं बातो में छुट दी थी ! ये छुट तीन महीने के लिए तय की गयी थी जिसकी डेड लाइन 31 जुलाई को ख़त्म होने वाली है और 1 अगस्त से फिर से वही नियम लागू हो जायेंगे ! सरकार ने मार्च 2020 से टैक्‍स से जुड़ी कई डेडलाइन को बढ़ाया है. इसके अलावा पोस्‍ट ऑफिस इनवेस्‍टमेंट स्‍कीमों की शर्तों में ढील दी है. महामारी के संकट के दौरान इस कठिन समय से निपटने में लोगों की मदद के लिए ऐसा किया गया. लेकिन अभी आपको याद दिला दें ताकि आगेआपको कोई कठिनाई का सामना न करना पड़े !

1-सेल्‍फ असेसमेंट टैक्‍स को भरने की तारीख
अगर वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आपका सेल्‍फ-असेसमेंट टैक्‍स एक लाख रुपये से ज्‍यादा है, तो आपको पेनाल्‍टी से बचने के लिए 31 जुलाई, 2020 से पहले भुगतान करना है. 24 जून, 2020 को सीबीडीटी ने एक सर्कुलर जारी किया था. इसके अनुसार, ऐसे व्यक्ति जिनकी सेल्‍फ-असेसमेंट टैक्‍स की देनदारी एक लाख रुपये से अधिक है, तो उनके लिए बिना किसी पेनाल्‍टी के इसका पेमेंट करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई, 2020 है. अगर ऐसे टैक्‍स का बाद में भुगतान किया जाता है तो हर ..

2-ईपीएफ कॉन्ट्रिब्‍यूशन की घटी दर खत्‍म होगी कंपनियों को राहत और कर्मचारियों को वेतन का ज्‍यादा पेमेंट के लिए सरकार ने कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) का कॉन्ट्रिब्‍यूशन तीन महीने (मई, जून और जुलाई, 2020 ) के लिए घटा दिया था. इसलिए अगले महीने से आपका संस्‍थान 10 फीसदी की घटी दर के बजाय 12 फीसदी की सामान्‍य दर से ईपीएफ में कॉन्ट्रिब्‍यूशन करेगा.

3-2018-19 का बिलेटेड आईटीआर फाइल करने की डेडलाइन
सरकार वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए बिलेटेड इनकम टैक्‍स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने की तारीख दो बार बढ़ा चुकी है. इसकी ओरिजनल डेट 31 मार्च 2020 थी. इसे बाद में 30 जून 2020 किया गया था. फिर इसे बढ़ाकर 31 जुलाई 2020 किया गया. अगर कोई बिलेटेड आईटीआर फाइल नहीं कर पाता है तो वह वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए आईटीआर नहीं भर सकेगा.

4-टैक्‍स-सेविंग इनवेस्‍टमेंट का अंतिम दिन सरकार टैक्‍स सेविंग निवेश के लिए अंतिम तारीख को बढ़ा चुकी है. वित्‍त वर्ष 2019-20 के लिए ऐसा निवेश करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई तक कर दी गई है. यानी अब कोई भी व्‍यक्ति इस तारीख तक टैक्‍स सेविंग इंस्‍ट्रूमेंट में निवेश कर डिडक्‍शन का बेनिफ‍िट ले सकता है.
5-टीडीएस/टीसीएस स्‍टेटमेंट को फाइल करने की तारीख सरकार वित्‍त वर्ष 2019-20 के टीडीएस और टीसीएस स्टेटमेंट फाइल करने की तारीख को बढ़ाया है. इसे बढ़ाकर 31 जुलाई तक किया गया है. टीडीएस और टीसीएस टैक्स वसूल करने के दो तरीके हैं. टीडीएस का मतलब स्रोत पर कटौती है. टीसीएस का मतलब स्रोत पर कर संग्रह होता है.
इन दोनों मामलों में रिटर्न फाइल करने की जरूरत पड़ती है. आमतौर पर टीडीएस अगल-अलग तरह के इनकम स्रोतों पर काटा जाता है. इनमें सैलरी, किसी निवेश पर मिला ब्याज, प्रोफेशनल फीस, कमीशन, ब्रोकरेज इत्‍यादि शामिल हैं. टीसीएस वह टैक्‍स है जो विक्रेता खरीदार से वसूलते हैं. ऐसा तब किया जाता है जब खरीदार उनसे कोई चीज खरीदता है. यहां ध्‍यान देने वाली बात यह है कि कुछ खास तरह की वस्‍तुओं के विक्रेता ही इसे कलेक्‍ट करते हैं. इन वस्‍तुओं में टिंबर वुड, स्‍क्रैप, मिनरल, तेंदु पत्‍ते इत्‍यादि आते हैं.
6-छोटी बचत स्‍कीमों के नियमों में ढील कोरोना की महामारी के चलते लोगों की आर्थिक स्थिति पर असर पड़ा है. इसे समझते हुए सरकार ने छोटी बचत स्‍कीमों के निवेशकों को कई तरह की रियायतें दी थीं. इन्‍हें 31 जुलाई 2020 तक बढ़ाया गया है.
रेकरिंग डिपॉजिट : जिन लोगों ने पोस्‍ट ऑफिस में रेकरिंग अकाउंट खोला है, वे अब मार्च, अप्रैल, मई और जून की किस्‍तें 31 जुलाई तक जमा कर सकते हैं. इसके लिए उनसे कोई अतिरिक्‍त शुल्‍क नहीं लिया जाएगा. यही नहीं, उन्‍हें डिफॉल्‍ट फीस का भी भुगतान नहीं करना होगा.

सुकन्‍या समृद्धि योजना (एसएसवाई) : आदेश के अनुसार, लॉकडाउन के दौरान (25 मार्च से 30 जून 2020 तक) जो बेटियां 10 साल की हुई हैं, उनके नाम 31 जुलाई 2020 तक सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) में खाता खुलवाया जा सकता है. इस योजना में किसी बच्‍ची के नाम पर 10 साल की उम्र तक ही खाता खुलवाया जा सकता है

पीपीएफ और एससीएसएस : अपने खातों को बढ़ाने की चाहते रखने वाले पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) और सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (एससीएसएस) के अकाउंट होल्‍डर 31 जुलाई तक ऐसा कर सकते हैं. इसके लिए उन्‍हें अपने रजिस्‍टर्ड ईमेल आईडी से एक ईमेल भेजना होगा. लॉकडाउन के हटने के बाद उन्‍हें संबंधित ब्रांच में इसकी ओरिजनल कॉपी जमा करनी होगी.
पीपीएफ अकाउंट के 15 साल पूरा होने पर इसे पांच साल के ब्लॉक में बढ़ाया जा सकता है. यह काम कॉन्ट्रिब्‍यूशन के साथ या इसके बिना कर सकते हैं. पांच साल के बाद जब एससीएसएस अकाउंट मैच्‍योर हो जाता है तो फिर इसे तीन साल की अवधि के लिए बढ़वाया जा सकता है.

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *