free tracking
Breaking News
Home / जरा हटके / किन्नर के प्यार में पागल हुआ ये लड़का,शादी रचा कर अब बच्चा लेना चाहता है गोद

किन्नर के प्यार में पागल हुआ ये लड़का,शादी रचा कर अब बच्चा लेना चाहता है गोद

दोस्तों हम सभी ने अपने जीवन में बहुत सी प्रेम कहानिया सुनी है और देखी भी  है . जब कोई  इन्सान किसी  को प्यार करता है तो  उसे सब कुछ खुबसुरत लगता है उसे अमीर -गरीब ,जाति -धर्म ,रंग -रूप  से  कुछ नही लेना होता है .वो तो बस अपने प्यार के साथ खुशहाल जीवन बिताना चाहता है . लेकिन कुछ रिश्ते और प्रेम कहानिया ऐसी होती है जिसे ये दुनिया वाले कबूल नही करते . इसके बाबजूद भी प्रेमी अपने  प्यार को रिश्ते का नाम देने के लिए  शादी में करने  की हिम्मत रखते है . आज हम आपको ऐसी ही अनोखी  प्रेम कहानी  के बारे में बताने वाले है जिसमे दो प्यार करने वालो ने दुनिया की परवाह  किये बिना शादी कर ली और साबित कर दिया कि सच्चे प्यार की हमेशा जीत होती है .

दरअसल ये मामला अयोध्या के सिद्ध स्थान नंदीग्राम भरतकुंड का है .जहां बताया गया है की शिव कुमार वर्मा नाम के एक लड़के ने लड़की अंजली सिंह के साथ वैदिक मंत्रोच्चार के बीच प्राचीन मंदिर में सात फेरे ले लिए. इसमें आप कहेंगे की इसमें ख़ास बात क्या है शादी तो होती रहती है. तो चलिए जानते है इस अनोखी शादी के बारे में विस्तार से…

दरअसल बताया गया है की दूल्हा शिवकुमार व दुल्हन अंजली प्रतापगढ़ के गांव गहरौली मजरे शुकुलपुर के रहने वाले हैं. और इन दोनों का विवाह समाज के लिए मिसाल बन गया है. क्योकि दूल्हा शिव कुमार के सामान्य युवक है जबकि दुल्हन अंजली एक किन्नर है. दूल्हा शिव कुमार ने बताया की आज से डेढ़ साल पहले अंजली से मेरी मुलाकात हुई थी.यह मुलाकात धीरे-धीरेप्यार में कब बदल गई इसका कोई अहसास नहीं हुई. दोनों ने एक दूसरे के बारे में जाना और फिर शादी करने का फैसला लिया. लेकिन इस बेमेल शादी के लिए परिवार के लोग राजी नहीं थे. जिसके चलते अंजली ने अपने परिवार के लोगों को समझाया. और वहीं, शिव ने भी अपने परिजनों को जैसे तैसे शादी के लिए राजी कर लिया. और आखिरकार बुधवार को दोनों शादी के बंधन में बंध गए.

निभाई कन्यादान की रस्म


जानकारी के मुताबिक अंजली और शिव अयोध्या में भगवान राम के भाई भरत की तपोस्थली नंदीग्राम में शादी करने के लिए पहुंचे थे. ताकि शादी के दौरान भगवान राम का आशीर्वाद इन दोनों दंपति को मिल सके. नंदीग्राम के प्राचीन मंदिर में पंडित अरुण कुमार तिवारी ने भगवान को साक्षी मान कर इस शादी को संपन्न कराया. बताया की शादी में अंजली के परिवार से बहन और बहनोई ने अंजली का कन्यादान किया. इस दौरान गांव के मौजूद लोग भी बेहद खुश नजर आये. इस खुशी में खुद गांव के लोगों ने एक-दूसरे का मुंह मीठा कराया. और दम्पति को गांव वालों ने सुखद वैवाहिक जीवन का आशीर्वाद भी दिया.

शादी के बाद लिया ये बड़ा फैसला:


शिव कुमार ने अंजली संग अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लिए हैं. जिसको उन्होंने जीवन भर निभाने का वादा किया. और उन्होंने कहा कि भविष्य में किसी बेसहारा बच्चे को गोद लेकर हम अपने परिवार को आगे बढ़ाएंगे.जिसे सुनकर सभी लोग हैरान रह गये वहीं, दुल्हन अंजली का भी कहना है की हमारे किन्नर समाज को दुनिया अच्छी नजरों से नहीं देखती है. इसलिए अभी हम दोनों के इस फैसले को स्वीकार करने में दोनों परिवार को थोड़ी समस्या जरूर आएगी. लेकिन बाद में धीरे-धीरे सब कुछ सामान्य हो जाएगा.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.