free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / बेटे से एप डाउनलोड कराई और पापा के अकाउंट से गायब कर दिए 9 लाख रुपये

बेटे से एप डाउनलोड कराई और पापा के अकाउंट से गायब कर दिए 9 लाख रुपये

दोस्तों देश में आये दिन कुछ न कुछ हो हैरान कर देने वाला हो ही जाता है और  कोई न कोई खबर सुनने को मिल ही जाती है  जैसे चोरी -चकारी , लूट -पाट ,धोखाधडी आदि ! आजकल हर जगह ऑनलाइन धोखाधडी के बहुत से मामले सामने आ रहे है . ऐसा ही एक अनोखा मामला  महाराष्‍ट्र के नागपुर में सामने आया है ! जिसमे एक व्यक्ति के साथ  ऑनलाइन धोखाधड़ी की गयी है ! आखिर क्या है ये पूरा मामला चलिए देखते है !

एक कॉल और अकाउंट से 9 लाख गायब

दरअसल नागपुर के कोराड़ी में रहने वाले एक व्‍यक्ति के बैंक अकाउंट से एक अज्ञात युवक ने 9 लाख रुपये चुरा लिए है !  इन रुपयों को चुराने के लिए उसने जिस  प्रक्रिया को अपनाया है  वो  सबको चौंका देने वाली है !नागपुर के कोराड़ी में रहने वाले अशोक मनवते का 15 साल का बेटा बुधवार को   उनका मोबाइल इस्‍तेमाल कर रहा था !  इस दौरान उनके फोन पर एक कॉल आई ! अशोक के बेटे के फोन उठाने पर कॉल करने वाले जालसाज ने अशोक के बेटे से कहा कि वह उसके पिता के डिजिटल पेमेंट अकाउंट की क्रेडिट लिमिट बढ़ा देगा !

इसके बाद जैसा-जैसा वो जालसाज  बताता गया  अशोक के बेटे ने वैसा ही किया  ! उस  जालसाज ने अशोक के बेटे से कहा कि वो मोबाइल में एक एप्‍लीकेशन डाउनलोड करे ! खुद को कस्‍टमर केयर एक्‍जीक्‍यूटिव बताने वाले जालसाज ने  बेटे के  मोबाइल में एप डाउनलोड  करते ही  उसके पिता के बैंक अकाउंट से 8.95 लाख रुपये पार कर दिए !ऐसा इसलिए हुआ क्‍योंकि अशोक के बैंक अकाउंट मोबाइल में मौजूद एप से जुडे़ थे !  ऐसे में जैसे ही जालसाज ने नई एप डाउनलोड कराई तो उसे उनके बैंक अकाउंट तक का एक्‍सेस मिल गया !इसके बाद बैंक अकाउंट तक का एक्‍सेस मिलते ही उसने सारे पैसे ट्रांसफर कर लिए !  पुलिस ने शिकायत दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी है !  पुलिस के अनुसार इस मामले की रिपोर्ट आईटी एक्‍ट के तहत भी लिखी गई है !  इस  मामले के सामने आने के बाद सभी लोगों से भी  अपील की गई है कि वे धोखाधड़ी के प्रति सचेत रहे !

यदि आपको हमारी ये जानकारी  पसंद आई हो तो लाईक, शेयर व् कमेन्ट जरुर करें ! रोजाना ऐसी ही जानकारी के लिए हमारे पेज को फ़ॉलो जरुर करे ! 

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.