free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / अगले 3 हफ्ते में आ सकती है म’हामारी की तीसरी लहर,8 लाख के पार हो सकते है केस

अगले 3 हफ्ते में आ सकती है म’हामारी की तीसरी लहर,8 लाख के पार हो सकते है केस

म-हामारी  के डेल्टा प्लस वेरिएंट से हर कोई डरा हुआ है. महाराष्ट्र टास्क फोर्स ने बहुत ही जल्द कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक की चेतावनी दी है. उन्होंने कहा कि अगर नियमों को नहीं माना गया तो दो से चार हफ्तों के भीतर ही राज्य में को-रोना की तीसरी लहर  आ सकती है. टास्क फोर्स ने कहा कि तीसरी लहर बच्चों के लिए काफी घातक हो सकती है. इस दौरान 10 फीसदी बच्चे प्रभावित हो सकते हैं. ये बात सीएम उद्धव ठाकरे की कोरोना समीक्षा बैठक के दौरान कही गई.

कोरोना की तैयारियों पर सीएम उद्धव ठाकरे (CM Uddhav) ने एक समीक्षा बैठक की. इस दौरान ये बात भी सामने आई है कि कोरोना की तीसरी लहर में एक्टिव केस 8 से 10 लाख पहुंच सकते हैं. वहीं एक्सपर्ट ने ये भी माना कि इस दौरान 10 फीसदी बच्चे करोना संक्रमण से प्रभावित हो सकते हैं. कहा जा रहा है कि अगर कोरोना नियमों का सख्ती से पालन नहीं किया गया तो बहुत ही जल्द महाराष्ट्र में तीसरी लहर (Maharashtra Third Wave) दस्तक दे सकती है.

टास्क फोर्स ने जारी की चेतावनी

कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट पहले से भी ज्यादा खतरनाक है. टास्क फोर्स की तरफ से दी गई इस चेतावनी के बाद सीएम ठाकरे ने मेडिकल टीम और ऑफिसर्स को स्वास्थ्य-व्यवस्था चाक-चौबंद करने के निर्देश दिए. वहीं सीएम की तरफ से डॉक्टर्स को सीरो सर्वे कराने के निर्देश जारी किए गए हैं. उनका कहना है कि सीरो सर्वे की वजह से लोगों के कोरोना वैक्सीनेशन और एंटीबॉडीज के लेवल की जरूरी जानकारी मिल सकेगी.

उन्होंने कहा कि कोरेना की पिछली लहर से सीख लेने की जरूरत है. पहली लहर के दौरान महाराष्ट्र में स्वास्थ्य व्यवस्था पर्याप्त संख्या में नहीं थी. वहीं दूसरी लहर से भी बहुत कुछ सीखने को मिला. अब तीसरी लहर के लिए पूरी तरह से तैयार रहने की जरूरत है. अस्पतालों में बेड, दवा और ऑक्सीजन की पर्याप्तता को पूरी तरह से सुनिश्चित करना होगा.

तीसरी लहर में 8 लाख के पार हो सकते हैं मरीज

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक कोरोना की तीसरी लहर के दौरान मरीजों की तादाद पहले से ज्यादा हो सकती है. उनका मानना है कि तीसरी लहर में एक्टिव मरीजों का आंकड़ा 8 लाख के पार जा सकता है. इनमें बड़ी संख्या में बच्चे भी शामिल हो सकते हैं. कोरोना की दूसरी लहर के लिए रिसर्चर्स डेल्टा वैरिएंट को जिम्मेदाक मान रहा हैं. कहा जा रहा है कि तीसरी लहर की वजह डेल्टा प्लस वैरिएंट होगा. जो पहले से भी ज्यादा खतरनाक है. इसी वजह से कोरोना नियमों पर खास तौर पर ध्यान देने की जरूरत है.

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published.