free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / खिलौने के साथ खेलते-खेलते चली गयी 17 माह के मासूम बच्चे की जान, कलेजे के टुकड़े को बचा नहीं पाए माँ बाप

खिलौने के साथ खेलते-खेलते चली गयी 17 माह के मासूम बच्चे की जान, कलेजे के टुकड़े को बचा नहीं पाए माँ बाप

दोस्तों  बच्चे रंगो की और बहुत जल्दी आकर्षित होते है इसलिए रंग बिरंगे खिलौने देख कर उन्हें उठाने की कोशिश करते है . कोई भी खिलौना या वस्तु या कोई कीड़ा मकौड़ा हर चीज़ को उठाकर बच्चे सीधा मुंह में डाल लेते है .इसलिए बच्चो पर हर समय नज़र रखने पड़ती है और उन्हें खेलने के लिए ऐसे खिलौने दिए है जिससे कोई नुक्सान न हो .लेकिन कभी कभी इतनी सावधानी बरतने के बाद भी कोई न कोई हादसा हो जाता है जो जीवन भर के लिए सजा बन जाता है .हालही में ग्लासगो से  एक ऐसा ही मामला सामने आया है जंहा एक सॉफ्ट टॉय बना मासूम का कातिल .

17 माह के मासूम की दर्दनाक मौत

क्रिस्टीन मैकडॉनल्ड और ह्यूग मैकमोहन पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है, उनके दर्द का कोई अंत ही नहीं है. दोनों अभिभावकों के हाथ से उनका 17 माह का इकलौता बच्चा छिन गया. तमाम कोशिशों के बाद भी वे अपने कलेजे के टुकड़े को बचा नहीं पाए.

मासूम ने निगल ली थी बटन बैटरी

रिपोर्ट के मुताबिक कुछ दिन पहले मासूम ने खेल-खेल में अपने टेडी बीयर खिलौने की बैटरी निगल ली थी. मासूम ने टेडी बीयर में लगी बटन बैटरी निगली थी. इसके कुछ देर बाद ही वह असहज महसूस करने लगा.

टेडी बीयर की बैटरी गायब मिली

घटना बीते साल 24 दिसंबर की है. मासूम की मां क्रिस्टीन ने बताया कि पहले तो उन्हें समझ नहीं आया कि बच्चे को हुआ क्या है. बाद में उन्हें टेडी बीयर की बैटरी गायब मिली, तब उन्हें समझ आया कि बच्चे ने बैटरी निगल ली है.

बच्चे को बचा पाना नामुमकिन था

क्रिस्टीन और ह्यूग बच्चे को लेकर मदरवेल स्थित विशॉ यूनिवर्सिटी अस्पताल पहुंचे. वहां पता चला कि बच्चे के खून में बैटरी का एसिड पूरी तरह से घुल गया. डॉक्टरों ने बताया कि बच्चे को बचाना अब नामुमकिन है. बच्चे की हालत दिन पर दिन बिगड़ती चली गई. लगभग एक सप्ताह के भीत उसने अपने मां-बाप के बाहों में दम तोड़ दिया.

बटन बैटरी के इस्तेमाल पर बैन चाहते हैं क्रिस्टीन-ह्यूग

अपनी इकलौती संतान को खोने के बाद क्रिस्टीन और ह्यूग ने खिलौनों में छोटी बैटरी के इस्तेमाल पर बैन लगाने के लिए अभियान शुरू कर दिया है. दोनों अब छोटी बैटरियों को बेचने से रोकने के लिए कानून में बदलाव की कोशिशों मे जुट गए हैं.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.