free tracking
Breaking News
Home / धार्मिक / 14 दिसम्बर यानी आज है साल का आखरी सूर्य ग्रहण, ये रा”शि वाले रहे सा”वधा’न

14 दिसम्बर यानी आज है साल का आखरी सूर्य ग्रहण, ये रा”शि वाले रहे सा”वधा’न

आज , 14 दिसंबर, दिन सोमवार को इस साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लग रहा है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह सूर्य ग्रहण दक्षिणी अफ्रीका, अधिकांश दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, अटलांटिक और हिंद महासागर और अंटार्कटिका में पूर्ण रूप से दिखाई देगा।भारतीय समय के अनुसार ये ग्रहण शाम को 7 बजकर 3 मिनट से शुरू होगा और रात 12 बजकर 23 मिनट पर खत्म हो जाएगा।सूर्य ग्रहण की अवधि लगभग 5 घंटे रहेगी।

जानें सूर्य ग्रहण को लेकर ची”न में क्या है मान्यता:
ची”न में सूर्य ग्रहण को लेकर ऐसा माना जाता है कि ए‍क विशाल ड्रे’गन जब सूर्य को निगल लेता है।तब ग्रहण लग जाता है। ग्रहण खत्‍म कैसे होता है, इसको लेकर यहां माना जाता है कि जब चा’इनी’ज देवता झांग जियान जो कि जन्‍म देने वाले देवता के रूप में यहां विख्‍यात हैं, जब वह ड्रेगन के ऊपर तीर चलाते हैं तो वह सूर्य को छोड़ता है।इस प्रकार से ग्रहण का समापन हो जाता है।

हिंदू धर्म से जुड़ी पौराणिक कथा:
हिंदू धर्म से जुड़ी पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार, एक बिना सिर वाला राक्षस राहु सूर्य और चंद्रमा को निगल लेता है, जिसके कारण ग्रहण लगता है।लेकिन वह बहुत देर तक सूर्य और चंद्रमा को अपने मुंह में नहीं रख पाता।मान्यता है कि इस राक्षस के हाथ पैर नहीं होते हैं जो सूर्य और चंद्रमा को पकड़ सकें. यही वजह है कि सूर्य ग्रहण बहुत देर तक नहीं रह पाता है और थोड़ी देर में ही सूर्य वापस अपनी स्थिति में आ जाते है।

वृश्चिक राशि और मिथुन लग्न में लगेगा सूर्य ग्रहण:
सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि और मिथुन लग्न में लगेगा।ग्रहण का नक्षत्र ज्येष्ठा है. इस कारण सूर्य ग्रहण का सबसे अधिक प्रभाव वृश्चिक राशि और मिथुन राशि पर पड़ेगा। इसलिए इन दोनों ही राशि के जातकों को सावधान रहने की जरूरत है।

सूर्य ग्रहण के दौरान ग्रहों की रहेगी ये स्थिति:
सूर्य ग्रहण के दौरान वृश्चिक राशि में 5 ग्रह मौजूद रहेंगे. ज्योतिष गणना के अनुसार सोमवती अमावस्या पर वृश्चिक राशि में सूर्य, चंद्र, बुध, शुक्र और केतु विराजमान रहेंगे. ऐसी स्थिति कई वर्षों बाद बन रही है.

जानें कब से कब तक लगेगा सूर्य ग्रहण:
भारतीय समय के अनुसार ये ग्रहण शाम को 7 बजकर 3 मिनट से शुरू होगा और रात 12 बजकर 23 मिनट पर खत्म हो जाएगा।सूर्य ग्रहण की अवधि लगभग 5 घंटे रहेगी।यह सूर्य ग्रहण दक्षिणी अफ्रीका, अधिकांश दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, अटलांटिक और हिंद महासागर और अंटार्कटिका में पूर्ण रूप से दिखाई देगा।

सूर्य ग्रहण के दौरान एक साथ होंगे पांच ग्रह:
ज्योतिषाचार्य के अनुसार सूर्य ग्रहण के दौरान पांच ग्रह एक साथ होंगे. सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि में लग रहा है. ग्रहण काल में वृश्चिक राशि में पांच ग्रह सूर्य, शुक्र, बुध, केतु और चंद्रमा एक साथ होंगे.

खतरनाक योग में लगेगा सूर्य ग्रहण:
सूर्य ग्रहण के दौरान गुरु चंडाल योग भी बन रहा है. ज्योतिष शास्त्र में इस योग को खतरनाक योगों में से एक माना गया है।जिन लोगों की जन्म कुंडली में पहले से ही गुरु चंडाल योग बना हुआ है उन्हें विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

नंगी आंख से न देखें ग्रहण काल का सूर्य:
ग्रहण काल का सूर्य देखने से आंखों की रोशनी पर असर पड़ सकता है।इस कारण नंगी आंखों से ग्रहण काल में सूर्य की ओर न देखें. संभव हो तो खिड़की बंद कर दें ताकि सूर्य की हानिकारक किरण घर में प्रवेश न कर सके.

सूर्य ग्रहण के दौरान रखें इन बातों का ध्यान:
सूतक से अर्थ है खराब समय या ऐसा समय जब प्रकृति ज्यादा संवेदनशील होती है , ऐसे में किसी अनहोनी के होने की संभावना ज्यादा होती है।सूतक चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण दोनों के समय लगता है।ऐसे समय में सावधान रहना चाहिए और ईश्वर का ध्यान करना चाहिए. सूतक काल में हमें कुछ खास बातों का ध्यान रखाना चाहिए. किसी बच्चे के जन्म लेने के बाद भी उस घर के सदस्यों को सूतक की स्थिति में बिताने होते हैं।सूतक काल में किसी भी तरह का कोई शुभ काम नहीं किया जाता।यहां तक की कई मंदिरों के कपाट भी सूतक के दौरान बंद कर दिये जाते हैं।

About admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *