free tracking
Home / ताजा खबरे / इन जिलों से गुजरेगा 100मीटर चौड़ा 8 लेन का वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे

इन जिलों से गुजरेगा 100मीटर चौड़ा 8 लेन का वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे

दोस्तो बड़े बड़े शहरों में आने जाने के लिए यात्रियों को मीलो का सफर करने में कई घंटे लग जाते है . ऐसे में इतने घंटे एक ही जगह बैठे बैठे यात्री  थकान महसूस करने लगते है कई लोगो को तो उल्टिया  लगने लगती है तबियत खराब होने लगती है . लेकिन क्या करे एक शहर से दुसरे शहर जाने के लिए ये सब तो सहना पड़ेगा . लेकिन अब यात्रियों को परेशान  होने की जरूरत नही है.  मोदी सरकार ने वित्तीय वर्ष 2022-23 को लेकर अहम निर्णय लिया है जिसके मुताबिक इस वर्ष इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट ज्यादा ध्यान दिया जाएगा और यही नही आम बजट में भारतमाला परियोजना के तहत वाराणसी  कोलकत्ता  एक्सप्रेसवे की घोषणा भी की गई हैं। इस एक्सप्रेसवे में कौन कौन से जिले आयेंगे यदि आप भी जानना चाहते है तो पूरी खबर को अंत तक पढ़े।

इससे वाराणसी और कोलकाता जैसे दो बड़े महानगरों के बीच की जर्नी कम समय में संभव हो सकेगी. वाराणसी से कोलकाता के बीच करीब 600 किमी लंबे नए एक्सप्रेसवे का निर्माण किया जाएगा, जो झारखंड के कई जिलों से गुजरेगा. इस आठ लेन के एक्सप्रेसवे के बनने से वाराणसी से कोलकाता की दूरी महज 6 से 7 घंटे में पूरी होगी.यह नया ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे 8 लेन का होगा. इसके बन जाने से उत्तर प्रदेश के चंदौली होते हए बिहार, झारखंड और बंगाल के बीच तेज कनेक्टिविटी मिलेगी. काशी-कोलकाता नए एक्सप्रेसवे से चंदौली, भभुआ, सासाराम, औरंगाबाद, बोकारो, रांची, पुरुलिया का सीधा संपर्क हो जाएगा. बिहार से होकर पटना, कोलकाता और गोरखपुर सिलीगुड़ी एक्सप्रेसवे भी प्रस्तावित है.

यूपी के चंदौली में एक्सप्रेसवे लगभग 22 किमी लंबा होगा. जबकि बिहार में यह 159 किमी होगा. चंदौली में यह पीडीडीयू नगर तहसील के रेवसां से धरौली बिहार बार्डर के बीच से गुजरेगा. यह जिले के 31 गांवों से गुजरेगा. इसके लिए जमीन चिह्नित करके डीपीआर तैयार करने की प्रक्रिया तेज हो गई है.भारतमाला परियोजना का एक्सप्रेसवे की लंबाई करीब 575 किमी है. इसकी चौड़ाई लगभग सौ मीटर से अधिक होगी. इसे बनाने का उद्देश्य देश की दो, बौद्धिक और कभी आर्थिक राजधानी रहे काशी और कोलकाता सीधे जोड़ना है. दो महानगरों के बीच वाया रांची से बनने वाले एक्सप्रेसवे की रूपरेखा तैयार हो चुकी है. भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है.

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published.